DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'विदेशी टीमों को पाकिस्तान ना बुलाये पीसीबी'

पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने यह कहकर फिर नए विवाद को जन्म दिया है कि सुरक्षा कारणों से पीसीबी को विदेशी टीमों को देश में खेलने नहीं बुलाना चाहिए।
     
अपने खेलने के दिनों में अक्सर क्रिकेट बोर्ड से टकराव मोल लेने वाले शोएब ने रावलपिंडी में पत्रकारों से कहा कि पाकिस्तान में विदेशी टीमों को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने नहीं बुलाना चाहिए।
     
उन्होंने कहा कि हमारी अवाम ही महफूज नहीं है और देश में जंग चल रही है। ऐसे हालात में टीमों को बुलाना जोखिमभरा होगा।
    
उन्होंने कहा कि अगर किसी विदेशी टीम पर फिर हमला हो जाये तो क्या होगा। मैं पीसीबी को सलाह दूंगा कि विदेशी टीमों को देश में ना बुलाये क्योंकि हम किसी अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट की मेजबानी की स्थिति में नहीं हैं। बोर्ड के एक अधिकारी ने इस पर कहा कि शोएब को कुछ मसलों की संवेदनशीलता समझनी चाहिए।
    
उन्होंने कहा कि हर किसी को पाकिस्तान की जमीनी हकीकतों का इल्म है लेकिन सरेआम कुछ बातें नहीं की जाती। लेकिन चूंकि वह रिटायर हो चुका है लिहाजा उसे अपनी राय जाहिर करने का हक है हालांकि इससे पीसीबी का कोई भला नहीं होने वाला।
     
श्रीलंकाई टीम पर मार्च 2009 में लाहौर पर आतंकी हमला होने के बाद किसी विरोधी टीम ने पाकिस्तान का दौरा नहीं किया। पीसीबी को अपनी घरेलू सीरीज संयुक्त अरब अमीरात में खेलनी पड़ी हैं। जाका अशरफ ने पिछले साल अक्टूबर में पीसीबी अध्यक्ष का पद संभाला है, तभी से विदेशी टीमों को पाकिस्तान आने के लिए मनाने का दौर जारी है।
    
अप्रैल में पाकिस्तान ने बांग्लादेश को दो मैचों की सीरीज खेलने बुलाया था लेकिन आखिरी मौके पर ढाका की एक अदालत के रोक लगाने के बाद सीरीज रद्द हो गई। बोर्ड को शोएब का यह बयान भी नागवार गुजरा है कि बोर्ड में बैठे 70 बरस के हुक्मरान पाकिस्तान प्रीमियर लीग का आयोजन नहीं करा सकते।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:'विदेशी टीमों को पाकिस्तान ना बुलाये पीसीबी'