DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाक को भी दे ऑस्ट्रेलिया यूरेनियम

ऑस्ट्रेलिया की सत्तारूढ़ पार्टी के भारत को यूरेनियम बिक्री को मंजूरी देने के एक दिन बाद पाकिस्तान ने मांग की है कि यदि गिलार्ड प्रशासन भारत को इसकी बिक्री की अनुमति देता है तो पाकिस्तान को भी इसकी बिक्री होनी चाहिए।

ऑस्ट्रेलिया में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल मलिक अब्दुल्ला ने कहा कि यदि ऑस्ट्रेलिया भारत को यूरेनियम की बिक्री के लिए उत्सुक है तो पाकिस्तान को भी इसकी बिक्री की जानी चाहिए।

अखबार द ऑस्ट्रेलियन ने अब्दुल्ला के हवाले से कहा, यदि ऑस्ट्रेलिया एक ऐसे देश के लिए प्रतिबंध खत्म करता है जिसने एनपीटी (परमाणु अप्रसार संधि) पर दस्तखत नहीं किया है तो यही रवैया पाकिस्तान के लिए भी अपनाना होगा।

पिछले एक दशक से भारत को यूरेनियम की बिक्री पर लगे प्रतिबंध को खत्म करने का रास्ता तैयार करते हुए लेबर पार्टी ने रविवार को इसके समर्थन में वोट दिया था। अब्दुल्ला ने कहा कि पाकिस्तान ने ऑस्ट्रेलियाई यूरेनियम के लिए आग्रह नहीं किया है लेकिन भविष्य में ऐसा हो सकता है।

उन्होंने कहा, ऐसी स्थिति में हमें उम्मीद है कि हमारे साथ भी गैर-एनपीटी हस्ताक्षरकर्ताओं के समान ही व्यवहार होगा
। जूलिया गिलार्ड ने हाल में पाकिस्तान से आतंकवाद और अतिवाद को खत्म करने के लिए और उपाय करने को कहा था।

आधी सदी तक पाकिस्तान के सबसे बड़े मुस्लिम आबादी और परमाणु हथियार संपन्न देश बनने की बात कहते हुए ऑस्ट्रेलिया के रक्षा मंत्री स्टीफन स्मिथ ने कहा कि पाकिस्तान सरकार और संसद ने सार्वजनिक तौर पर आतंकवाद और चरमपंथ का समर्थन नहीं किया है, लेकिन कुछ अधिकारियों, पूर्व अधिकारियों की तरफ से आशंका को देखते हुए ऑस्ट्रेलिया को और अधिक सतर्कता बरतने को कहा गया है।

उन्होंने कहा कि ऑस्ट्रेलिया और विश्व के अन्य देशों को पाकिस्तान के साथ मजबूती से काम करना चाहिए। रिपोर्ट में कहा गया है कि ऑस्ट्रेलियाई सामग्री और सेवाओं के दुरुपयोग की खुफिया जानकारी के आधार पर स्मिथ ने सामूहिक विनाश के हथियारों (प्रसार रोकने) अधिनियम के तहत अपनी शक्तियों का प्रयोग कर पाकिस्तान को पिछले दो सालों में निर्यात से तीन बार रोका।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पाक को भी दे ऑस्ट्रेलिया यूरेनियम