DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

1971 के युद्ध के जांबाज सिपाहियों को याद किया

पाकिस्तान के साथ वर्ष 1971 के युद्ध की 40वीं बरसी पर शुक्रवार को जांबाज सिपाहियों को याद किया गया और युद्ध में शहादत देने वालों को श्रद्धांजलि दी गई। युद्ध में पाकिस्तान की हार के बाद पूर्वी पाकिस्तान आजाद हो गया, जो आज बांग्लादेश के नाम से जाना जाता है।

रक्षा मंत्री ए. के. एंटनी ने युद्ध स्मारक पर पुष्पचक्र भेंट कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी और उनके बलिदान को याद किया। देश के लिए जान न्यौछावर करने वाले जवानों को याद करते हुए उन्होंने कहा, ''आज बहुत खास दिन है.. ऐतिहासिक दिन है।''

उल्लेखनीय है कि देशभर में 16 दिसम्बर को 'विजय दिवस' के रूप में मनाया जाता है। वर्ष 1971 के युद्ध में करीब 3,900 भारतीय सैनिक शहीद हो गए, जबकि 9,851 घायल हो गए थे।

पूर्वी पाकिस्तान में पाकिस्तानी बलों के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल ए. ए. के. नियाजी ने भारत के पूर्वी सैन्य कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल जगत सिंह अरोड़ा के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया था, जिसके बाद 17 दिसम्बर को 93,000 पाकिस्तानी सैनिकों को युद्धबंदी बनाया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:1971 के युद्ध के जांबाज सिपाहियों को याद किया