DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिवा एशियाई ओलंपिक क्वालीफायर के सेमीफाइनल में

युवा भारतीय मुक्केबाज शिवा थापा ने सोमवार को पूर्व ओलंपिक रजत पदकधारी थाईलैंड के वोरापोज पेचकूम को 16-10 से हराकर उलटफेर करते हुए कजाखस्तान के अस्ताना में एशियाई ओलंपिक क्वालीफायर के सेमीफाइनल में प्रवेश किया और अब वह लंदन ओलंपिक का टिकट कटाने से केवल एक जीत दूर हैं।
 
युवा ओलंपिक खेलों के इस 18 वर्षीय भारतीय मुक्केबाज ने अपने दूसरे सीनियर अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में थाईलैंड के 30 वर्षीय पर शानदार जीत दर्ज की जो 2006 में एशियाई कांस्य पदक भी जीत चुके हैं।

असम के मुक्केबाज थापा ने कहा कि मेरी पहली बाउट में मेरा शरीर थोड़ा अकड़ा था लेकिन इस बाउट में सब ठीक रहा। अब मेरा शरीर ठीक है। थापा ने अपने पहले सीनियर अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट के फाइनल में विश्व चैम्पियन को हराकर सनसनी फैला दी थी, जिसमें उसने स्वर्ण पदक जीता था।
 
उसने कहा कि मैं आक्रामक था और मैं अपनी रणनीति के अनुसार खेला। मैंने तैयारियों के लिये पिछले टूर्नामेंट की रिकार्डिंग देखी थी। मैं जानता था कि मैं उसे हरा सकता हूं और मैं खुश हूं कि मैंने ऐसा किया। अब फाइनल के लिए थापा का सामना जापान के सांतोषी सिमिजू से होगा जिन्होंने उत्तरी कोरिया के मयोंग किम को 23-10 से परास्त किया। कल आराम का दिन होगा।
 
अगर यह भारतीय मुक्केबाज इस राउंड में जीत जाता है तो वह लंदन ओलंपिक के लिए भी अपना टिकट कटा लेगा, लेकिन अगर इसमें उसे हार मिलती है तो उसे प्रार्थना करनी होगा कि उसका प्रतिद्वंद्वी स्वर्ण पदक जीत जाए क्योंकि चैम्पियन बनने वाले मुक्केबाज के खिलाफ सेमीफाइनल में हारने वाले मुक्केबाज को ही लंदन ओलंपिक का कोटा मिलता है।
 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शिवा एशियाई ओलंपिक क्वालीफायर के सेमीफाइनल में