DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बस थोड़ी सी तो लिफ्ट करा दे

किनारे से उठ कर मुख्यधारा में बहने को बेताब एक नाम नेहा शर्मा का भी है। चिरंजीवी के बेटे रामचरन तेजा के साथ तेलुगू फिल्म ‘चिरुथा’ से अपना एक्टिंग करियर शुरू करने वाली यह अदाकारा पिछले साल इमरान हाशमी की फिल्म ‘क्रुक’ से हिन्दी के मैदान में आने के बाद से खाली ही थीं। अब वह फिल्म ‘तेरी मेरी कहानी’ में दिखेंगी।

नेहा शर्मा का नाम सुना है आपने? अच्छा सुलग्ना पाणिग्रही तो आपको जरूर याद होगी? और कैनाज मोतीवाला तथा टिया वाजपेयी को तो आप भूले ही नहीं होंगे? स्वरा भास्कर को तो आप देखते ही पहचान लेंगे?

मुमकिन है कि इन तमाम सवालों के जवाब आप ‘न’ में दें लेकिन इससे न तो इन तारिकाओं की अहमियत कम हो जाती है और न ही इनके इरादों में कोई कमी आने वाली है। दरअसल ये तमाम तारिकाएं एक-दो हिन्दी फिल्मों में आकर दर्शकों से तारीफें भी पा चुकी हैं लेकिन प्रचार और फिल्मों की कमी के चलते इन्हें चर्चाओं में जगह नहीं मिलती और यही वजह है कि इन्हें याद करने के लिए दिमाग के दरवाजे पर जोर-जोर से दस्तक देनी पड़ती है। इनके अलावा साशा गोराडिया, सोनल चौहान, जोया मोरानी, स्वरा भास्कर जैसी ऐसी कई लड़कियां यहां मौजूद हैं जो कभी-कभार नजर आईं भी तो उसके बाद बहुत जल्द फिर से दरकिनार कर दी गईं।
अब आप सोनल चौहान को ही लीजिए। भट्ट कैंप की फिल्म ‘जन्नत’ से अपना करियर शुरू करने वाली इस खूबसूरत अदाकारा को बाद में सिर्फ शो रूम्स के रिबन काटते हुए ही देखा गया। इस साल वह ‘बड्ढा होगा तेरा बाप’ से फिर खबरों में आईं लेकिन आज उनके पास और कोई फिल्म नहीं है। हां, मरहूम पेंटर एम.एफ़ हुसैन के बेटे द्वारा बनाई एक फिल्म उन्होंने जरूर की थी जो पता नहीं कब आएगी। इस साल की हिट फिल्म ‘तनु वैड्स मनु’ में कंगना रणावत की सहेली के किरदार में नजर आईं अभिनेत्री स्वरा भास्कर इस फिल्म के आने के नौ महीने बाद भी खबरों से दूर हैं। बकौल स्वरा- ‘इस मेरे पास दो फिल्में ‘लिसन अमाया’ और ‘सबकी बजेगी बैंड’ है और ये दोनों ही फिल्में नए लोग बना रहे हैं। यहां टैलेंट और सफलता से ज्यादा कई बार किस्मत की जरूरत पड़ती है और नए लोगों को खुद को साबित करना पड़ता है।’

सोनल चौहान इधर कन्नड़ फिल्मों में बिजी थीं। उनका कहना है कि वह अब फिर से हिन्दी फिल्मों में पैर जमाना चाहती हैं लेकिन जिस तरह के ऑफर आ रहे हैं उनसे बेहतर तो वह खाली बैठने को मानती हैं। कैनाज मोतीवाला को ही लीजिए। इस साल ‘रागिनी एम.एम.एस.’ जैसी सरप्राइज हिट फिल्म में आईं कैनाज को इस फिल्म में पहचाना गया, सराहा गया, लेकिन काम के नाम पर मिले रागिनी जैसे ही किरदार जिन्हें करके वह अपनी इमेज को ‘कामुक’ नहीं बनाना चाहतीं। फिलहाल कैनाज कुछ नए लोगों के साथ ‘चलो ड्राईवर’ नाम की एक फिल्म कर रही हैं और उम्मीद जताती हैं कि एक दिन वह भी अभिनेत्रियों की अगली वाली कतार का हिस्सा होंगी।

साशा गोराडिया की सुनिए। बचपन में ‘ढूंढते रह जाओगे’ स्लोगन वाले एक वॉशिंग पाउडर में कुणाल खेमू के साथ नजर आई वह बच्ची बड़ी होकर पिछले दिनों दीपा साही के निर्देशन में ‘तेरे मेरे फेरे’ में हीरोइन बन कर आई। यह फिल्म नहीं चली और आज साशा फिर से काम तलाश रही है। फिलहाल यही तस्वीर सुलग्ना पाणिग्रही जैसी अदाकारा की भी दिख रही है। ‘अंबर धरा’, ‘दो सहेलियां’, ‘सपना बाबुल का बिदाई’ जैसे हिट टीवी सीरियल्स की इस अभिनेत्री ने इस साल की हिट फिल्म ‘मर्डर 2’ में कॉलेज गर्ल रेशमा के किरदार से बड़े पर्दे पर अपनी शुरुआत की लेकिन अभी वह वहीं खड़ी हैं, जहां कुछ महीने पहले थीं।

किनारे से उठ कर मुख्यधारा में बहने को बेताब एक नाम नेहा शर्मा का भी है। चिरंजीवी के बेटे रामचरन तेजा के साथ एक तेलुगू फिल्म ‘चिरुथा’ से अपना एक्टिंग करियर शुरु करने वाली यह अदाकारा पिछले साल इमरान हाशमी की फिल्म ‘क्रुक’ से हिन्दी के मैदान में आने के बाद से खाली ही थीं। लेकिन अब वह कुणाल कोहली की फिल्म ‘तेरी मेरी कहानी’ में शाहिद कपूर के साथ रोमांस करती नजर आएंगी। हालांकि इस फिल्म की लीड हीरोइन प्रियंका चोपड़ा हैं लेकिन बताया जा रहा है कि नेहा का इस फिल्म में छोटा लेकिन काफी अहम रोल है। इसके अलावा नेहा एकता तुषार कपूर की हीरोइन बन कर ‘क्या सुपर कूल हैं हम’ में नजर आएंगी। नेहा काफी उत्साह से बताती हैं कि इस फिल्म और इसमें अपने रोल को लेकर वह बहुत खुश हैं और उन्हें उम्मीद है कि इस फिल्म के बाद लोग उन्हें जरूर नोटिस करेंगे। कुछ ऐसे ही उत्साह में ऐशा गुप्ता भी हैं। मॉडलिंग की दुनिया में खासी मशहूर ऐशा किंगफिशर कैलेंडर में भी अपने ‘जलवे’ दिखा चुकी हैं। ऐशा की फिल्मों में शुरुआत वैसे तो उपेन पटेल के साथ ‘हम आप और प्यार’ से होने वाली थी लेकिन उनके ‘जलवों’ ने उन्हें भट्ट कैंप की फिल्म ‘जन्नत 2’ दिलाई जिसमें वह इमरान हाशमी और रणदीप हुड्डा के साथ नजर आएंगी। कभी गायिका बनने का सपना लेकर लखनऊ से मुंबई आईं और ‘घर की लक्ष्मी बेटियां’ सीरियल से एक्टिंग में कूद गईं ट्विंक्ल वाजपेयी ने इसी साल विक्रम भट्ट की फिल्म ‘हॉन्टेड’ से टिया वाजपेयी बन कर बड़े पर्दे पर कदम रखा। अब बहुत जल्द वह मनोज वाजपेयी वाली फिल्म ‘लंका’ में आ रही हैं। टिया का कहना है कि गायकी का उनका शौक बरकरार है लेकिन अभी वह अपना ध्यान अभिनय पर किए हुए हैं।

फिल्म ‘ऑलवेज कभी कभी’ में आईं जोया मोरानी, टी़वी़ पर हिट होने के बाद राकेश ओमप्रकाश मेहरा के प्रोडक्शन की फिल्म ‘3 थे भाई’ में आईं। गोविंदा की भानजी रागिनी खन्ना, ‘यमला पगला दीवाना’ में आईं। कुलराज रंधावा, ‘लाहौर’ और ‘दिल तो बच्चा है’ में आ चुकीं श्रद्धा दास जैसी कई तारिकाएं यहां मौजूद हैं जो लाइम लाइट में आने को बेताब हैं। ऐसा भी नहीं है कि ग्लैमर के इस मैदान में पैवेलियन में बैठ कर अपनी बारी का इंतजार कर रहीं इन तारिकाओं में किसी किस्म की कमी हो। अपनी तरफ से इनकी कोशिशें लगातार चालू हैं और पिच पर आकर खेलने के लिए ये अपने बैट-पैड के साथ तैयार भी हैं मगर कहते हैं न कि वक्त से पहले और भाग्य से ज्यादा किसी को कुछ नहीं मिलता।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बस थोड़ी सी तो लिफ्ट करा दे