DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नम्बर-1 पिता और पति बनना मुश्किल: गोविंदा

अपनी फिल्मों के जरिए गोविंदा ने ‘कुली नम्बर-1’, ‘हीरो नम्बर-1’, ‘आंटी नम्बर-1’, और ‘अनाड़ी नम्बर-1’ बने लेकिन असल जिंदगी में गोविंदा के लिए पिता नम्बर-1 और पति नम्बर-1 बनना काफी मुश्किल है।

गोविंदा ने कहा, ‘असल जिंदगी में आप एक पिता और पति बने रह सकते हैं। दोनों के बीच तालमेल की जरूरत होती है लेकिन नम्बर-1 पिता या फिर नम्बर-1 पति बनना बहुत मुश्किल है। इसमें काफी परिश्रम की जरूरत होती है।’

48 वर्षीय गोविंदा ने सुनीता से 1987 में शादी की थी और उनके दो बच्चे नर्मदा और यशवर्धन हैं। गोविंद ने कहा, ‘पेशेवर तौर पर आप काम करते हैं लेकिन व्यक्तिगत तौर पर हर चीज से भावनात्मक तौर पर जुड़े होते हैं। सफल बेटा होना एक चुनौती है। मैं भगवान को धन्यवाद देता हूं, जिन्होंने मुझे यह अनुभव हासिल करने का मौका दिया।’

गोविंदा ने अपने सफल फिल्मी करियर के लिए अपने माता-पिता को भी धन्यवाद किया। गोविंदा ने कहा, ‘मैंने फिल्म जगत में 25 साल गुजारे हैं। यह काफी लम्बा वक्त है। यह सब माता-पिता के आशीर्वाद के कारण सम्भव हो सका है।’

गोविंदा की पहली फिल्म ‘इल्जाम’ 1986 में प्रदर्शित हुई थी। उसके बाद से गोविंदा ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और हिंदी फिल्म जगत में बतौर हास्य अभिनेता एक खास मुकाम बनाया। इस दौरान गोविंदा ने अनेकों सफल फिल्में दीं, जिनमें नम्बर-1 सीरीज की फिल्मों का खास स्थान है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नम्बर-1 पिता और पति बनना मुश्किल: गोविंदा