DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेरे लिए मलयालम सिनेमा ही बेहतर: मोहनलाल

ऐसे समय में जब नए सितारे बॉलीवुड में पहचान बनाने के लिये आगे आ रहे हैं वहीं मलयालम सुपरस्टार मोहनलाल का मानना है कि उन्हें बॉलीवुड में खुद को अभिनेता के तौर पर साबित करने की जरूरत नहीं है।
    
मलयालम सिनेमा में 1978 में प्रवेश करने वाले मोहनलाल ने कुछ फिल्मों के बाद ही अपने आप को एक अभिनेता के तौर पर स्थापित कर लिया था। मलयालम फिल्म रजविंते मकन के बाद उनको सुपरस्टार का तमगा मिल गया।
    
मोहनलाल ने बताया कि मैं 33 सालों से फिल्मों में काम कर रहा हूं। मैं क्यों बॉलीवुड आकर खुद को सिद्ध करूं। मैं अपनी भाषा की फिल्मों से संतुष्ट और खुश हूं। अगर मुझे कोई अच्छा और लुभावना रोल मिलता है तो मैं जरूर निभाउंगा।
    
उन्होंने कहा कि काफी अभिनेत्रियां दक्षिण सिनेमा से शुरुआत कर बॉलीवुड का रुख करती हैं क्योंकि हिंदी सिनेमा की पहुंच ज्यादा है, पर मेरे जैसे अभिनेता के लिए दक्षिण सिनेमा ही सही है। मोहनलाल ने 2002 में आई फिल्म कंपनी में एक पुलिस अधिकारी की भूमिका निभाई थी। इसी भूमिका के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ सह कलाकार का आईफा अवॉर्ड भी मिला।
    
इसके बाद 'राम गोपाल वर्मा की आग' में उन्होंने एक पुलिस अधिकरी की भूमिका निभाई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मेरे लिए मलयालम सिनेमा ही बेहतर: मोहनलाल