DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेसबॉल खेलोगे तो फिट रहोगे

बेसबॉल एक ऐसा खेल है जो हर उम्र का इंसान खेल सकता है। इसे केवल बड़े ही नहीं, बच्चे भी खेल सकते हैं। लड़के ही नहीं, लड़कियां भी खेल सकती हैं। बेसबॉल बहुत ही मजेदार गेम है। विदेशों में इसे खूब पसंद किया जाता है। इसके बारे में तुम्हें बता रही हैं ममता

कब शुरू हुआ
बेसबॉल 1846 में इंग्लैंड में सबसे पहले खेला गया था, लेकिन इसको वास्तविक रूप कुछ परिवर्तन के साथ उत्तरी अमेरिका ने दिया। 19वीं शताब्दी के अंत में यह संयुक्त राज्य अमेरिका का नेशनल गेम बन गया। बेसबॉल तब उत्तरी अमेरिका, सेंट्रल और दक्षिण अमेरिका, केरेबिया और ईस्ट एशिया में खूब खेला जाता था। बेसबॉल को धीरे-धीरे ओलंपिक में भी स्थान मिल गया। यह समर (गर्मी) ओलंपिक में खेला जाता है।

ऐसे खेलते हैं..
इसमें एक विशेष प्रकार के बैट और बॉल का प्रयोग किया जाता है। बैट रॉड की तरह होता है और बॉल को इससे हिट किया जाता है। यह खेल दो टीमों के बीच खेला जाता है। एक टीम में 9 खिलाड़ी होते हैं। एक टीम बैटिंग करती है और दूसरी फील्डिंग। बैट, रॉड की तरह होने से बॉल को हिट करना मुश्किल होता है। बॉलर बिना किसी टप्पे या जमीन पर बॉल को लगाए सीधा बैटमैन की तरफ फेंकता है। बैटमैन बॉल को हिट करके अपने बल्ले को वहीं छोड़कर दूसरे छोर पर भागता है। बेसबॉल खेलने की पिच डायमंड आकार की होती है, जिसके चार बेस होते हैं। बल्लेबाज बॉल को हिट करके नं.-2 बेस में भागता है, यानी वह एक बार में जितने बेस कवर करेगा उसको उतने ही रन मिलेंगे। यह रोमांचक गेम खेलने में जितना मजेदार है, उतना देखने में भी।

हमारे देश में यह खेल

भारत में एमेच्योर बेसबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया की स्थापना दिसम्बर1982 में की गई।
पहली बेसबॉल चैम्पियनशिप नई दिल्ली में 1985 में खेली गई थी।
यह एमेच्योर फेडरेशन एशिया की बेसबॉल फेडरेशन और अंतरराष्ट्रीय बेसबॉल फेडरेशन से मान्यता प्राप्त है।
भारत सरकार ने 1991 में इसे मान्यता दी।
भारतीय टीम ने 1995 में एशिया कप बेसबॉल चैम्पियनशिप में कांस्य पदक फिलीपींस में जीता था।
इसमें 11 साल, 15 साल और 17 साल की उम्र के बच्चों की टीम ने भी भाग लिया था।
बेसबॉल को स्कूल नेशनल गेम्स के रूप में 1999 में शामिल किया गया। इससे स्कूलों में भी इसे मान्यता मिल गई।
2002 में इसे इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन से स्थान मिल गया।
एसएआई ने बेसबॉल में सर्टिफिकेट कोर्स 2003 में शुरू किया।

कितने सारे फायदे
बेसबॉल को केवल मनोरंजन के लिए ही नहीं, बल्कि बच्चे अपने करियर के रूप में भी चुन सकते हैं। भारत में बेसबॉल खिलाड़ियों की बहुत जरूरत है। बेसबॉल खेलने के अनेक फायदे हैं-

इसमें अपना करियर बना सकते हो।
शारीरिक एवं मानसिक संतुलन सही रहता है।
हाथ, आंख का संतुलन अच्छा हो जाता है।
टीम वर्क सीखते हैं।
हार हो या जीत, हर परिस्थिति में अपना संतुलन बनाए रखते हैं।

खेलने के लिए ये चाहिए-
बेस बैट
बेस बॉल
बेस (ग्लब्स)
हेलमेट
जूते

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बेसबॉल खेलोगे तो फिट रहोगे