DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लालू से जुड़े एक मामले में फैसला अगले महीने संभव

सीबीआइ की कोशिश है कि अगले महीने तक पूर्व सीएम और पूर्व रेलमंत्री लालू प्रसाद यादव से जुड़े कम से कम एक मामले में फैसला आ जाए। इसकी पूरी तैयारी सीबीआइ ने कर रखी है। सांसद लालू प्रसाद यादव से जुड़े पांच मामलों में आरसी-20 ए में सबसे पहले फैसला आने की उम्मीद है। दरअसल इस मामले में एक मार्च से बचाव पक्ष की गवाही शुरू हो चुकी है।

सीबीआइ की विशेष कोर्ट ने मात्र तीन दिनों में 46 अभियुक्तों के बयान दर्ज किए हैं। वहीं दूसरी ओर आरसी-38 ए में अभियोजन साक्ष्य कोर्ट में प्रस्तुत किये जा रहे हैं। अभियोजन की ओर से 345 गवाह हैं। इनमें 213 गवाहों के बयान कलमबद्ध कराए जा चुके हैं।

चारा घोटाले में कांड संख्या-आरसी 47 ए को सबसे बड़ा मामला माना जाता है। डोरंडा कोषागार से 139.39 करोड़ रुपये की अवैध निकासी घोटालेबाजों ने कर ली थी। इसमें लालू समेत कुल 148 अभियुक्त हैं। बिहार के पूर्व सीएम डा. जगन्नाथ मिश्र भी इस मामले में अभियुक्त हैं।

अभियोजन की ओर से कुल 804 गवाह बनाये गये हैं। इनमें से 303 की ही गवाही हो पायी है। आरसी- 68 में लालु समेत कुल 76 अभियुक्त बनाये गये हैं। मामला कोर्ट में अभियोजन साक्ष्य के स्टेज में है। कुल 287 गवाहों में 178 गवाहों के बयान कलमबद्ध कराये जा चुके हैं। चाइबासा कोषागार से घोटालेबाजों ने 33.61 करोड़ रुपये की अवैध निकासी कर ली थी।
आरसी-64 ए भी अभियोजन साक्ष्य के स्टेज में है। यह मामला देवघर कोषागार से जुड़ा है। यहां से घपलेबाजों ने 90 लाख रुपये की अवैध निकासी 90 के दशक में की थी। इसमें लालू समेत कुल38 अभियुक्त हैं। अभियोजन पक्ष की ओर से 269 गवाह हैं, जिनमें से 155 की गवाही हो चुकी है।

गाय-भैंस ढोये गये थे स्कूटर, मोपेड से
बिहार सरकार के पशुपालन विभाग ने स्कूटर, मोपेड से गाय-भैंस ढोये थे। सीबीआइ के अनुसंधान में ये तथ्य सामने आए थे। चारा की आपूर्ति भी स्कूटर से की गयी थी। विभाग और आपूर्तिकर्ताओं ने जो वाहन संख्या दिखाया था, वह स्कूटर और मोपेड का निकला था। दरअसल बड़े पैमाने पर फरजी आपूर्ति की गयी। बाद में आपूर्ति दिखाकर कोषागारों से करोड़ों करोड़ की अवैध निकासी कर ली गयी थी। इससे स्टेट एक्सचेकर को काफी नुकसान हुआ था।

अमित खरे ने पहली बार पकड़ी थी गड़बड़ियां
झारखंड कैडर के भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी अमित खरे ने पशुपालन विभाग में की गयी आर्थिक गड़बड़ियों को पकड़ा था। उस समय वह चाईबासा के डीसी थे। उन्होंने इस मामले की उच्चस्तरीय जांच की सिफारिश सरकार से की थी।

घोटाले की रकम-करीब नौ सौ करोड़ रुपये
अभियुक्तों की कुल संख्या- 1432
महिला अभियुक्तों की संख्या-32
कोषागार की संख्या-आठ
कुल मामले- 64 ( झारखंड के खाते में 53 मामले )
जब्त सम्पत्ति- करीब तीन सौ करोड़ रुपये की सम्पत्ति और नकद
महत्वपूर्ण अभियुक्त राजनेता
लालू प्रसाद यादव, डा जगन्नाथ मिश्र, आरके राणा, भोलाराम तूफानी (अब मृत), ध्रुव भगत, जगदीश शर्मा, विद्या सागर निषाद, राघो सिंह (मृत)
भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी
सजल चक्रवर्ती, एसपी दुबे, के अरूणुगम, महेश प्रसाद, फुल चन्द सिंह, बेक जूलियस
हजारीबाग का लश्कर कनेक्शन
आतंकी तौसिफ को दिल्ली ले गई स्पेशल टीम

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लालू से जुड़े एक मामले में फैसला अगले महीने संभव