DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पोत मामले में आरोपियों पर दया नहीं: चांडी

मछुआरों को मारे जाने के मामले की जांच में प्रगति को अच्छी बताते हुए केरल के मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने सोमवार को विधानसभा में कहा कि आरोपी इतालवी मरीनों के प्रति कोई उदारता नहीं दिखाई जाएगी क्योंकि सरकार की प्राथमिकता मृतकों के परिजनों के लिए न्याय सुनिश्चित करना है।
   
विपक्षी एलडीएफ के सदस्यों ने कांग्रेस नीत यूडीएफ सरकार पर मछुआरा समुदाय की सुरक्षा सुनिश्चित करने में नाकाम रहने का आरोप लगाया और सदन से वाकआउट कर गए। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि इस गंभीर मामले में गिरफ्तार किए गए दो मरीनों के साथ आरोपियों के बजाय अतिथियों जैसा सलूक किया जा रहा है।
   
माकपा के पी के गुरूदासन ने कहा कि इतालवी पोत के मरीनों द्वारा दो मछुआरों को गोली मारने की घटना और बीते सप्ताह एक पोत से एक नौका के टकराने के बाद उनमें सवार तीन मछुआरों की मौत की घटना तटीय सुरक्षा प्रणाली में गंभीर खामियों को उजागर करती है।
   
चांडी ने विपक्ष के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि राज्य और केंद्र का ढृढ़ता से मानना है कि इतालवी मरीनों के खिलाफ भारतीय कानूनों के तहत मुकदमा चलाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि जांचकर्ताओं द्वारा जुटाए गए पुख्ता सबूतों के आधार पर बहुत मजबूत मामला बनाया गया है।
   
उन्होंने कहा कि अभियोजकों ने इटली के, उनके मरीनों के बचाव में दिए गए तर्क खारिज कर दिए हैं। उन्होंने (इतालवी अधिकारियों ने) पहले कहा कि मछुआरों को भूलवश दस्यु समझ कर गोली मारी गई। बाद में उन्होंने भारतीय कानूनों के तहत मरीनों के खिलाफ मुकदमा चलाए जाने पर आपत्ति जताई और कहा कि यह घटना भारतीय विशिष्ट नौवहन क्षेत्र के बाहर हुई है।
   
उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने इन तर्कों पर आपत्ति जताते हुए साफ कर दिया कि आरोपियों को भारतीय कानून का सामना करना चाहिए। केंद्र ने भी राज्य से सहमति जताई है।
   
चांडी ने कहा कि इस रूख में कोई बदलाव नहीं आया है और दोनों देशों के बीच कूटनीतिक रिश्ते न्याय की राह में नहीं आने चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पोत मामले में आरोपियों पर दया नहीं: चांडी