DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अवसरों का शहर है जमशेदपुरः रतन टाटा

टाटा समूह के अध्यक्ष रतन टाटा ने शनिवार को टाटा का गढ़.. कहे जाने वाले देश के प्रमुख औद्योगिक नगर जमशेदपुर से अपने वर्षों पुराने जुड़ाव को याद करते हुए इसे 'अवसरों का शहर' करार दिया।

टाटा ने शनिवार को टाटा समूह के संस्थापक स्वर्गीय जमशेदजी नौशेरवानजी टाटा के जन्मदिवस की 173वीं सालगिरह के अवसर पर आयोजित संस्थापक दिवस समारोह के दौरान नवनिर्मित पोस्टल पार्क में स्थानीय नागरिकों को संबोधित करते हुए कहा कि जमशेदपुर स्वच्छता का प्रतीक है और यह अवसरों का शहर है।

यहां से मेरा संबंध भी काफी पुराना है हालांकि यह शहर उस समय से अब काफी बदल गया है जब मैं यहां पहली बार प्रशिक्षु के रूप में आया था और करीब साढ़े छह साल तक रहा था। इस मौके पर उन्होंने अपने साथ उपस्थित अपने उत्तराधिकारी तथा टाटा समूह के निर्वतमान डिप्टी चेयरमैन साइरस पी. मिस्त्री का स्वागत भी किया।

टाटा ने कहा कि पहली बार जमशेदपुर की लौहनगरी में आए मिस्त्री का स्वागत हैं। मुझे खुशी है कि वह आगामी दिसंबर में समूह की कमान संभालेंगे और वह इससे गौरवान्वित महसूस करेंगे।

बाद में टाटा ने नागरिक संगठनों और समूह की कंपनियों के भव्य झांकीनुमा जुलूस को झंडी दिखा कर स्थापना दिवस समारोहों की औपचारिक शुरुआत की। इससे पहले टाटा ने शनिवार सुबह टाटा स्टील के यहां स्थित एकमात्र कार्यशील भारतीय संयंत्र के भीतर आयोजित स्थापना दिवस समारोह के दौरान स्वर्गीय जेएन टाटा की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की।

इस मौक पर टाटा स्टील के प्रबंध निदेशक एचएम नेरूरकर समेत समूह की कई कंपनियों के आला अधिकारी और निदेशक भी उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अवसरों का शहर है जमशेदपुरः रतन टाटा