DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत-ईरान व्यापारिक रिश्ते मजबूत करन के लिए कटिबद्ध

ईरान एवं भारत के प्रमुख उद्यमियों ने व्यापारिक रिश्ते मजबूत करने के लिए संकल्प व्यक्त किया। फिलहाल दोनों देशों के मध्य द्विपक्षीय व्यापार 15 अरब डॉलर है और उम्मीद की जा रही है कि 2016 तक यह बढ़ कर 25 अरब डॉलर हो जाएगा।

तेहरान के चैम्बर ऑफ कामर्स के महानिदेश मोहम्मद मेहदी रसेक ने रविवार को कहा कि वर्तमान क्षमताओं के दोहन से द्विपक्षीय व्यापार की मात्रा बढ़ेगी। इन दिनों 80 भारतीय व्यापारिक प्रतिनिधिमंडल ईरान के दौरे पर है।

शुक्रवार को पहुंचे भारतीय प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख राशिद अल्वी ने राजनीतिक एवं व्यापारिक सहयोग बढ़ने से न केवल भारत-ईरान लाभान्वित होंगे बल्कि इससे विश्व एवं क्षेत्र में शांति और स्थिरता बढ़ाने में मदद मिलेगी।

अल्वी ने कहा कि ईरान लम्बे समय से भारत का मित्र रहा है और उसने सभी क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति की है। उन्होंने कहा कि ईरान सम्भावनाओं से भरपूर देश है और भारत इसके साथ सम्बंध मजबूत करना चाहता है।

उन्होंने कहा कि वैश्विक वित्तीय संकट से यह बात सिद्ध हुई है कि क्षेत्रीय सहयोग मजबूत करना आवश्यक है। भारत के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के संयुक्त सचिव अरविंद मेहता ईरानी उद्यमियों के साथ शनिवार को बैठक के दौरान कहा कि द्विपक्षीय व्यापार अगले चार वर्षो में 25 अरब डॉलर तक पहुंच जाएगा।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने ईरान के आधिकारिक टीवी चैनल 'प्रेस टीवी' के हवाले से बताया कि वर्तमान में दोनों देशों के मध्य 15 अरब डॉलर का व्यापार है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत-ईरान व्यापारिक रिश्ते मजबूत करन के लिए कटिबद्ध