'खिलाड़ियों की जिम्मेदारी फ्रेचाइजी पर होनी चाहिए' - 'खिलाड़ियों की जिम्मेदारी फ्रेचाइजी पर होनी चाहिए' DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'खिलाड़ियों की जिम्मेदारी फ्रेचाइजी पर होनी चाहिए'

आईपीएल-5 की विजेता टीम कोलकाता नाइटराइडर्स के कप्तान गौतम गंभीर का कहना है कि खिलाडियों को अनुशासन में रखने की जिम्मेदारी संबंधित फ्रेंजाइजी पर होनी चाहिए और मैदान के बाहर खिलाड़ियों के व्यवहार के लिए बोर्ड को जिम्मेदार नहीं ठहराया जाना चाहिए।
 
गंभीर ने एक न्यूज चैनल से कहा कि खिलाड़ी मैदान के बाहर क्या करता है इसकी जिम्मेदारी संबंधित फ्रेंचाइजी की होनी चाहिए। अगर कोई खिलाड़ी कुछ गलत करता है तो इसके लिए संबंधित फ्रेंचाइजी पर भारी जुर्माना लगाया जाना चाहिए। अपने खिलाड़ियों को अनुशासित रखने की जिम्मेदारी संबंधित फ्रेंचाइजी की होनी चाहिए। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) हर खिलाड़ी पर नजर नहीं रख सकता।
 
उल्लेखनीय है कि आईपीएल-5 में अनुशासनहीनता की कई घटनाएं हुई थीं और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के ऑस्ट्रेलियाई खिलाडी ल्यूक पोमर्शबाख पर तो एक अमेरिकी महिला ने छेड़छाड़ तक का आरोप लगा दिया था। गंभीर ने कहा कि फ्रेंचाइजी को चाहिए कि ऐसे खिलाड़ियों पर कड़ी नजर रखे जिनका शराब पीकर उत्पात मचाने का इतिहास है।
 
आईपीएल में कालेधन और स्पॉट फिक्सिंग के इस्तेमाल पर गंभीर ने बीसीसीआई और आईपीएल का बचाव करते हुए कहा कि इसके लिए आईपीएल और बीसीसीआई पर आरोप लगता रहा है। अगर फ्रेंचाइजी सक्षम है तो ऐसी अधिकांश समस्याओं से आसानी से पार पाया जा सकता है। हमारे साथ जितने का अनुबंध होता है हमें वह मिल रहा है और अवैध तरीके से कुछ नहीं मिलता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:'खिलाड़ियों की जिम्मेदारी फ्रेचाइजी पर होनी चाहिए'