DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इंटरनेशनल पिलो फाइट डे

पिलो यानी तकिए को आमतौर पर सभी सोते समय इस्तेमाल करते हैं। लेकिन 7 अप्रैल को कई देशों में तकिए का इस्तेमाल एक-दूसरे पर फेंकने के लिए किया गया। इसे नाम दिया गया ‘पिलो फाइट’। इस अनोखी फाइट में बच्चों से लेकर बूढ़ों तक ने भाग लिया। कई देशों के बड़े शहरों में एक ही दिन लोग जमा हुए और लोगों ने एक-दूसरे पर तकिए उछालकर जमकर मस्ती की। इस फाइट की शुरुआत 2005 में टोरंटो में हुई थी। यहां के दो आर्टिस्टों केविन ब्राकेन और लोरी कफनर ने 2005 में पिलो फाइट का पहली बार आयोजन किया था। हालांकि इसका उद्देश्य कुछ नहीं था, लेकिन इसी बहाने लोगों ने कुछ देर मस्ती की। इसके बाद धीरे-धीरे यह फाइट कई देशों में शुरू हुई। इस बार 7 अप्रैल को 120 शहरों में पिलो फाइट का आयोजन किया गया, जिसमें लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। यह फाइट अमेरिका से लेकर तुर्की तक आयोजित की गयी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इंटरनेशनल पिलो फाइट डे