DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डीजल बिक्री पर नुकसान 19.26 रुपये लीटर तक पहुंचा

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में तेजी के रुख के बीच डीजल की बिक्री पर नुकसान बढ़कर 19.26 रुपये प्रति लीटर पहुंच गया है। इससे सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम कंपनियों घाटे से उबरने के उपाय तलाशने में जुट गई हैं।

सूत्रों ने कहा कि उत्पादन लागत करीब 28 प्रतिशत बढ़ने के बावजूद पिछले साल जून से डीजल, घरेलू रसोई गैस और केरोसिन के दाम नहीं बढ़ाए गए हैं। डीजल, घरेलू एलपीजी और केरोसिन की बिक्री, लागत से काफी नीचे करने की वजह से इंडियन आयल, हिंदुस्तान पेट्रोलियम और भारत पेट्रोलियम को प्रतिदिन 560 करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ रहा है।

सूत्रों ने कहा कि डीजल की बिक्री 19.26 रुपये प्रति लीटर, केरोसिन 34.34 रुपये प्रति लीटर और घरेलू एलपीजी 347 रुपये प्रति सिलेंडर (14.2 किलो) नुकसान पर की जा रही है। डीजल पर नुकसान अब तक का सबसे अधिक है।

इसके अलावा इन्हें पेट्रोल की बिक्री पर 4.85 रुपये प्रति लीटर का नुकसान हो रहा है, जबकि पेट्रोल की कीमतें जून, 2010 में ही सरकारी नियंत्रण से मुक्त की जा चुकी हैं। वर्तमान दर पर, तीनों कपंनियों को 31 मार्च को समाप्त हुए वित्त वर्ष में करीब 1,92,951 करोड़ रुपये का नुकसान होने का अनुमान है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डीजल बिक्री पर नुकसान 19.26 रुपये लीटर तक पहुंचा