DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आयकर छूट की सीमा 3 लाख रुपये हो सकती है!

महंगाई से त्रस्त आम आदमी को राहत पहुंचाने के लिए प्रत्यक्ष कर संहिता (डीटीसी) विधेयक की समीक्षा कर रही एक संसदीय समिति ने आयकर छूट सीमा बढ़ाकर 3 लाख रुपये करने का सुझाव दिया है।

समिति ने बचत के मामले में भी ढाई लाख रुपये तक की बचत पर कर कटौती का सुझाव दिया है। वित्त मामलों की संसद की स्थायी समिति की शुक्रवार को यहां हुई बैठक के बाद सूत्रों ने बताया कि समिति ने रपट स्वीकार कर ली है। रपट एक सप्ताह के भीतर संभवत: बजट सत्र से पहले सौंप दी जाएगी।

इस रपट से डीटीसी विधेयक पर संसद में बहस का रास्ता साफ हो जाएगा। रपट  में निगमित कर की दर 30 प्रतिशत बनाए रखने का भी सुझाव दिया गया है। समिति ने सुझाव दिया कि वैयक्तिक आयकर के लिए 10 प्रतिशत, 20 प्रतिशत और 30 प्रतिशत के तीन स्लैब होने चाहिए।

डीटीसी आयकर कानून, 1961 का स्थान लेगा और देश में प्रत्यक्ष कर ढांचे का आधुनिकीकरण करेगा। डीटीसी विधेयक का मसौदा अगस्त, 2010 में भाजपा के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा की अध्यक्षता वाली समिति के पास समीक्षा के लिए भेजा गया था।

सरकार द्वारा आगामी बजट में करों से संबंधित कुछ उपायों की घोषणा किए जाने की संभावना है। वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी लोकसभा में 16 मार्च को आम बजट पेश करेंगे। आयकर छूट सीमा के संबंध में समिति में आयकर छूट सीमा बढ़ाकर 3 लाख रुपये करने के सुझाव पर आम सहमति बनी। अभी छूट सीमा 1.8 लाख रुपये है। हालांकि, डीटीसी के मूल विधेयक में आयकर छूट सीमा बढ़ाकर 2 लाख रुपये करने का प्रस्ताव है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आयकर छूट की सीमा हो सकती है 3 लाख रुपये!