DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'युवाओं के खेल' में दिग्गजों ने भी बिखेरी चमक

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के पहले संस्करण से पहले क्रिकेट पंडितों का कहना था कि ट्वेंटी-20 केवल युवाओं का खेल है और इस लिहाज से संन्यास की दहलीज तक पहुंचे दिग्गज इस स्वरूप में नाकाम रहेंगे लेकिन दिग्गजों ने इसे झूठा साबित कर दिया।

विश्व के कई ऐसे वरिष्ठ खिलाड़ी हैं जिन्होंने अपनी कप्तानी में टीम को न केवल खिताब दिलाए हैं बल्कि ढेरों रन बनाकर और विकेट झटककर या क्षेत्ररक्षण में चुस्ती दिखाकर युवाओं के बीच अपनी उपयोगिता साबित की है। ऐसे में अब यह कहना मुश्किल है कि ट्वेंटी-20 में किसकी चलती है-युवाओं की या फिर दिग्गजों की।

आईपीएल के पांचवें संस्करण का आयोजन चार अप्रैल से 27 मई तक भारत में किया जा रहा है। पिछले चारों संस्करण की तरह इस बार भी वरिष्ठ खिलाड़ियों पर सबकी निगाहें होंगी जिन्होंने उम्र को पीछे छोड़ अब तक बेहतरीन प्रदर्शन किया है।

वरिष्ठ खिलाड़ियों में बल्लेबाजी के मामले में 38 वर्षीय मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर का नाम शीर्ष पर है। तेंदुलकर ने मुम्बई इंडियंस (2008-2011) की ओर से कुल 51 मैच खेले हैं जिनमें उन्होंने 120.15 की स्ट्राइक रेट से 1723 रन बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने एक शतक और 10 अर्धशतक लगाए हैं।

तेंदुलकर का सर्वश्रेष्ठ व्यक्तिगत स्कोर नाबाद 100 रन है। रिकॉर्डो के बादशाह तेंदुलकर ने हाल ही में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में अपना सौंवा शतक पूरा किया है। तेंदुलकर ने आईपीएल में कुल 218 चौके लगाए हैं और इस मामले में वह शीर्ष पर हैं।

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व विकेट कीपर बल्लेबाज एडम गिलक्रिस्ट ने अपनी कप्तानी में डेक्कन चार्जर्स टीम को वर्ष 2009 में खिताब दिलाई थी। गिलक्रिस्ट आक्रामक बल्लेबाजी के अलावा विकेट के पीछे भी बड़ी ही चुस्ती और फुर्ती के साथ शिकार करते हैं। वर्तमान में गिली किंग्स इलेवन पंजाब की ओर खेल रहे हैं।

40 वर्षीय गिली ने (2008-11 जिनमें डेक्कन चार्जर्स और किंग्स इलेवन पंजाब की टीमें शमिल हैं) अब तक 60 मैचों में 142.74 की स्ट्राइक रेट से 1603 रन बनाए हैं जिनमें उन्होंने दो शतक और नौ अर्धशतक लगाए हैं। इस दौरान उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर नाबाद 109 रन है।

गिलक्रिस्ट ने अब तक कुल 82 छक्के लगाए हैं और आईपीएल में ऐसा करने वाले वह पहले खिलाड़ी हैं। दक्षिण अफ्रीका के 36 वर्षीय हरफनमौला जाक कैलिस (वर्ष 2008-11, कोलकाता नाइट राइडर्स, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर) ने कुल 57 मैचों में 112.18 की स्ट्राइक रेट से 1556 रन बनाए हैं जिनमें 14 अर्धशतक शामिल हैं।

कैलिस का इस दौरान सर्वश्रेष्ठ स्कोर 89 रन रहा है। आईपीएल में सर्वाधिक अर्धशतक लगाने के मामले में कैलिस शीर्ष पर हैं।

गेंदबाजी में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व लेग स्पिन गेंदबाज शेन वॉर्न के योगदान को भला कौन भूल सकता है। वॉर्न ने अपनी कप्तानी में वर्ष 2008 में राजस्थान रॉयल्स फ्रेंचाइजी टीम को चैम्पियन बनाया था।

राजस्थान की टीम उस समय विजेता बनीं थी जब टूर्नामेंट शुरू होने से पहले खिताब के दावेदारों में शूमार नहीं किया जा रहा था, बावजूद इसके राजस्थान ने आईपीएल का उद्घाटन टूर्नामेंट जीतकर खूब वाहवाही लूटी।

42 वर्षीय वॉर्न ने (2008-11) राजस्थान की ओर से कुल 55 मैच खेले जिनमें उन्होंने 57 विकेट झटके। इस दौरान उन्होंने 1447 रन खर्च किए और उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 21 रन देकर चार विकेट रहा। वॉर्न अब आईपीएल में नहीं खेल रहे हैं।

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की ओर से खेलने वाले अनिल कुम्बले (2008-2010) ने 42 मैचों में 45 विकेट झटके हैं। इस दौरान उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन पांच रन देकर पांच विकेट है। कुम्बले ने इस दौरान 1058 रन लुटाए हैं।

विश्व के महानतम गेंदबाजों में से एक श्रीलंका के पूर्व स्पिनर मुथया मुरलीधरन (2008-11 चेन्नई सुपर किंग्स, कोच्चि टस्कर्स केरल) ने 45 मैच खेले हैं जिनमें उन्होंने 1135 रन खर्च कर 42 विकेट चटकाए हैं। इस दौरान मुरली का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 11 रन पर तीन विकेट रहा है।

उल्लेखनीय है कि क्षेत्ररक्षण करते समय कैलिस ने कुल 24 कैच लपके हैं। इसके अलावा एक मैच में उन्होंने सर्वाधिक चार कैच लपके हैं जो आईपीएल में किसी भी खिलाड़ी का अब तक सर्वश्रेष्ठ है। तेंदुलकर के नाम 19 कैच दर्ज है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:'युवाओं के खेल' में दिग्गजों ने भी बिखेरी चमक