अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

युवा भारतीय टीम में काफी सुधार की गुंजाइश : सरदार

 हॉलैंड दौरे पर अच्छे प्रदर्शन के बावजूद भारतीय हॉकी टीम के कप्तान सरदार सिंह का मानना है कि इस युवा टीम को विश्व लीग के तीसरे दौर से पहले अपने प्रदर्शन में काफी सुधार करना होगा क्योंकि उसमें सामना कठिन प्रतिद्वंद्वियों से है।
     
भारत ने हॉलैंड दौरे पर मेजबान टीम को दो मैचों में 2-0 और 4-0 से हराया। इससे पहले शीर्ष पांच क्लबों के खिलाफ खेले गए पांच मैचों में से दो जीते और दो हारे जबकि एक ड्रॉ रहा।
     
सरदार ने रोटरडम से कहा कि यह दौरा बहुत अच्छा था और हॉकी इंडिया के हाई परफॉर्मेंस निदेशक रोलैंट ओल्टमेंस ने सुनिश्चित किया था कि हम मजबूत टीमों से खेलें। हमने इस दौरे पर काफी कुछ सीखा।
    
इस अनुभवी मिडफील्डर ने कहा कि हॉलैंड को बड़े अर्से बाद हमने हराया। इसके अलावा जिन पांच क्लबों के खिलाफ खेला, उनमें दुनिया के नामचीन खिलाड़ी थे। हमने आक्रामक हॉकी, बॉडी प्ले और उनके बराबर रफ्तार से खेलने का अभ्यास किया।
    
उन्होंने बताया कि इसके अलावा हर मैच के बाद एक घंटे का वीडियो विश्लेषण होता था जिसमें टीम और व्यक्तिगत रूप से खिलाड़ियों की गलतियों का विश्लेषण होता था। इससे मैच दर मैच हमारा प्रदर्शन बेहतर होता गया।

सरदार ने हालांकि कहा कि रोटरडम में ही 13 जून से शुरू हो रहे विश्व हॉकी लीग के तीसरे दौर (सेमीफाइनल) से पहले युवा भारतीय टीम को काफी मेहनत करनी होगी। सेमीफाइनल में भारत का मुकाबला ऑस्ट्रेलिया, स्पेन, हॉलैंड, आयरलैंड और न्यूजीलैंड जैसी मजबूत टीमों से होगा जिसमें तीन या चार टीमें फाइनल दौर में जाएंगी।
     
पिछले साल एफआईएच के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का नामांकन हासिल करने वाले भारतीय कप्तान ने कहा कि इस टीम में कई युवा खिलाड़ी हैं जो अनुभव से सीख रहे हैं। अहम बात यह है कि रणनीति पर मैदान में अमल दिख रहा है लेकिन कई क्षेत्रों में और मेहनत करनी होगी।
    
उन्होंने इस बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि मसलन विरोधी टीम के पास गेंद है तब हमारी पोजिशनिंग क्या होगी मैन टू मैन मार्किंग और मिडफील्ड में खेल में और पैनापन लाना होगा। अभी हमारे पास एक महीना है और हमें यकीन है कि टूर्नामेंट से पहले हम अपनी कमियों पर काबू पा लेंगे।
     
सरदार ने स्वीकार किया कि लीग सेमीफाइनल में चुनौती कठिन है लेकिन यह भी कहा कि टीम इसके लिए तैयार है।
    
उन्होंने कहा कि हमारा सामना तीसरे दौर में मजबूत टीमों से है लेकिन खिलाड़ी फिट और फॉर्म में हैं। हॉलैंड दौरे पर बखूबी रोटेशन के जरिये सभी खिलाड़ियों को पूरा मौका मिला है और किसी को थकान भी महसूस नहीं हुई।
     
हॉकी इंडिया की ओर से खेलरत्न पुरस्कार के लिए नामांकित सरदार ने कहा कि उनका लक्ष्य मैदान पर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहता है और उसे सराहना मिलने से हौसलाअफजाई होती है।
    
उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर देश के सबसे बड़े खेल सम्मान के लिए नामांकित होने से खुशी है। मैं हमेशा मैदान पर अपनी ओर से शत प्रतिशत देने की कोशिश करता हूं। पुरस्कार मिलने से खिलाड़ियों की हौसलाअफजाई होती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:युवा भारतीय टीम में काफी सुधार की गुंजाइश : सरदार