DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत के लिए अहम होगी रक्षापंक्ति की फार्म

भारतीय हॉकी टीम फिर से उम्मीदों के पंखों पर उड़ान भर रही है। बीजिंग खेल 2008 में जगह नहीं बनाने के बाद फिर से ओलंपिक में शामिल होने के बाद भारत फिर से वहां खड़ा है जहां उसे होना चाहिए था और पूरे देश की शुभकामनाएं हमारे खिलाड़ियों के साथ हैं जिनकी निगाहें उस कड़ी परीक्षा पर टिकी हैं जिससे ओलंपिक खेलों में वे रू ब रू होंगे।

भारतीय प्रदर्शन से अच्छे संकेत मिलते हैं लेकिन खिलाड़ियों के लिए आगे की चुनौती को देखते हुए वास्तविक आकलन जरूरी है। भारत की अच्छे प्रदर्शन की उम्मीदें इस पर निर्भर करेंगी की डिफेंडर्स प्रतिद्वंद्वी स्ट्राइकरों और पेनाल्टी कार्नर विशेषज्ञों से कैसे निबटते हैं।

भारतीय स्ट्राइकरों ने अग्रिम पंक्ति में हमेशा अच्छे मौके बनाए हैं लेकिन वह डिफेंडर्स हैं जिनका प्रदर्शन यह तय करेगा कि टीम ने आखिर में क्या हासिल किया। भारतीय टीम जब लंदन ओलंपिक पार्क के हॉकी एरेना में प्रवेश करेगी तभी से निगाहें भारतीय रक्षापंक्ति पर टिकी रहेंगी। अभी इस तरह के नारों और दंभी दावों पर ध्यान देने की जरूरत है जिससे लगता है कि भारतीय टीम स्वर्ण पदक की दौड़ में है। अभी हम जिस मुकाम पर खड़े है वहां छोटी सफलता भी स्वागतयोग्य है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत के लिए अहम होगी रक्षापंक्ति की फार्म