DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वायु सेना को मिलेगी आकाश मिसाइल

भारत के स्वदेशी शस्त्र विकास कार्यक्रम में एक बड़ी उपलब्धि के तौर पर सतह से हवा में प्रहार करने वाली स्वदेश निर्मित आकाश मिसाइल के पहले बेड़े को रक्षा मंत्री एके एंटनी शनिवार को वायुसेना को सौंपेंगे।

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि रक्षा मंत्री एक नवनिर्मित एडवांस्ड लाइट वेट टारपीडो (टीएएल) को हैदराबाद में नौसेना को सौंपेंगे। उन्होंने कहा कि रक्षा क्षेत्र में स्वदेशी प्रौद्योगिकी के विकास में बड़े मील के पत्थर के रूप में एंटनी स्वदेशी आकाश के पहले बेड़े को वायुसेना के सुपुर्द करेंगे। इस शस्त्र प्रणाली को भारतीय पैट्रियट के तौर पर जाना जाता है।

पैट्रियट एक अमेरिकी मिसाइल प्रणाली है जिसका इस्तेमाल 90 के दशक में पहले खाड़ी युद्ध के दौरान इराकी स्कड मिसाइलों को निष्प्रभावी करने के लिए सफतलापूर्वक किया गया था। डीआरडीओ ने एकीकृत निर्देशित प्रक्षेपास्त्र विकास कार्यक्रम के तहत देश में ही आकाश मिसाइल का विकास किया और यह सभी मौसम में, मध्यम रेंज की सतह से हवा में प्रहार करने वाली मिसाइल प्रणाली है।
   
अगले कुछ दशक में यह मिसाइल भारतीय सशस्त्र बलों के वायु रक्षा शस्त्रगार का मुख्य आधार हो सकती है। यह मानवरहित विमानों (यूएवी), लड़ाकू विमानों, क्रूज मिसाइलों और हेलीकॉप्टरों से प्रक्षेपित मिसाइलों को भी नष्ट कर सकती है। लाइट वेट टॉरपीडो का विकास विशाखापत्तन की राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी प्रयोगशाला (एनएसटीएल) ने किया है।

इसे जलपोतों और हेलीकॉप्टरों दोनों से प्रक्षेपित किया जा सकता है और समुद्र में गहराई में चल रही पनडुब्बियों को भी यह निशाना बना सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वायु सेना को मिलेगी आकाश मिसाइल