इंजीनियरिंग में दाखिला हो जाएगा आसान - इंजीनियरिंग में दाखिला हो जाएगा आसान DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इंजीनियरिंग में दाखिला हो जाएगा आसान

शिक्षाविदों, बोर्ड और आईआईटी ने सराहा परीक्षा का नया प्रारूप
सभी बोर्डों के परीक्षा प्रारूप को समान बनाए जाने के प्रस्ताव को शिक्षाविदों, बोर्ड और आईआईटी सभी ने सराहा है। सभी का मानना है कि इस कदम से सभी बोर्डों के स्तर को समान करने की बहस को विराम मिल सकेगा।
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के अधिकारी का कहना है कि नए प्रारूप में सभी बोर्डों में प्रश्नपत्रों में प्रश्नों की संख्या और अंकों का वितरण समान करने का प्रस्ताव है। उदाहरण के तौर पर किसी प्रश्नपत्र में दस बहुविकल्पीय प्रश्न, पांच लघु उत्तरीय प्रश्न और तीन दीर्घउत्तरीय प्रश्न होंगे तो सभी बोर्ड का प्रारूप ऐसा होगा। उन्होंने कहा कि इससे इस धारणा को भी बदला जा सकेगा कि अमुक बोर्ड बेहतर है और अमुक कमजोर।

केआईआईटी स्कूल की प्राचार्या संगीता भाटिया का कहना है कि प्रारूप समान करने से छात्रों का एक बोर्ड से दूसरे बोर्ड में माइग्रेशन कम होगा। बिहार परीक्षा बोर्ड के चेयरमैन आर.पी.सिन्हा का कहना है कि जब आप स्कूल बोर्ड को चालीस प्रतिशत वेटेज देते हैं ऐसे में असमानता होना लाजिमी है। स्तर को समान करने के लिए एक स्टैंडर्ड प्रारूप बनाए जाने की आवश्यकता थी। ऐसे में यह प्रस्ताव बेहतर है।

आईआईटी दिल्ली के एक प्रोफेसर का कहना है कि शुरुआत से बोर्डों के प्रारूप में असमानता होने की वजह से ही इस बात की आलोचना की जा रही थी कि इंजीनियरिंग परीक्षा में दाखिले के लिए प्रारूप को न बदला जाए। शुरुआत से कहा जा रहा था कि स्कूल बोर्ड को वेटेज न दिया जाए। पर सभी बोर्डो के प्रारूप को समान करने का प्रस्ताव छात्रों के लिहाज से बेहतर होगा क्योंकि इससे मार्किंग में अधिक असमानता नहीं होगी और सभी बोर्डो को करीब-करीब समान स्तर पर परखा जा सकेगा।

मौजूदा समय में करीब 25 लाख छात्र विभिन्न बोर्डों के माध्यम से बारहवीं की परीक्षा देते हैं जिसमें से करीब 15 लाख छात्र आईआईटी या अन्य इंजीनियरिंग स्कूलों की परीक्षा में बैठते हैं।

ऑनलाइन सुधार आज से
केंद्रीय शिक्षक योग्यता परीक्षा (सीटीईटी) 18 नवंबर को होगी। अगर किसी छात्र का नाम, जन्मतिथि, माता-पिता का नाम, श्रेणी, पता, कॉलेज आदि में किसी तरह की गलती हो गई है तो वह ऑनलाइन सुधार कर सकता है। ऑनलाइन सुधार आज से शुरू हो जाएगा और 19 अक्तूबर तक किया जा सकेगा। अगर छात्र की बेवसाइट पर अपलोड आवेदन पत्र में फोटोग्राफ, दस्तखत में किसी तरह की दिक्कत है तो वह सीबीएसई कार्यालय में सहायक सचिव से दस से पांच बजे के बीच संपर्क कर सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इंजीनियरिंग में दाखिला हो जाएगा आसान