DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तनाव भगाए सही खानपान

क्या आप अक्सर तनाव में रहते हैं? न इसका कारण समझ में आता है और न ही उपाय? विशेषज्ञ कहते हैं कि कुछ आदतों को और खानपान को सुधारकर आप इस तनाव से खुद को दूर रख सकते हैं। इस बारे में जानकारी दे रही हैं मृदुला भारद्वाज

आज की तेज रफ्तार जिंदगी में तनाव लोगों को अपनी चपेट में तेजी से ले रहा है। विशेषज्ञों की मानें तो आज 90 प्रतिशत लोग तनाव संबंधित रोगों से पीड़ित हैं। जब हमारे मन या शरीर को किसी चुनौती का सामना करता पड़ता है तो हमारी चयापचय प्रक्रिया तेज हो जाती है। रक्तचाप, हृदय गति और नाड़ी की गति बढ़ जाती है, शरीर में खून का दौरा तेज हो जाता है। अगर ये स्थिति अधिक देर तक बनी रहे तो कई शारीरिक व मानसिक समस्याएं पैदा हो सकती हैं। लेकिन सही खान-पान के जरिये आप तनाव से कोसों दूर रह सकते हैं। कई ऐसे भोजन हैं, जो हमारे शरीर को तनाव से लड़ने की शक्ति देते हैं। संतरा, दूध, सूखे मेवे, अनाज और कई अन्य ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जो हमारे दिमाग को शक्ति प्रदान करते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार तनाव की स्थिति में थोड़ा-थोड़ा कर कई बार खाना तनाव को दूर करने में सहायक होता है, क्योंकि थोड़ा-थोड़ा खाने से शरीर को शक्ति मिलती रहती है और दिमाग भी चुस्त-दुरुस्त रहता है।

चाहिए फाइबरयुक्त आहार
फाइबरयुक्त आहार जैसे साबुत अनाज ब्रेन न्यूरोट्रांसमीटर सेरोटोटिन के उत्पादन को बढ़ाता है जो आपकी सोचने-समझने की शक्ति को बढ़ाता है और तनाव को कम करने में मदद करता है। अपने आहार में पर्याप्त सब्जियां शामिल करें। हरी, पीली और नारंगी रंग की सब्जियों में मिनरल्स, विटामिंस और फाइटोकेमिकल्स होते हैं, जो इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाते हैं, ताकि आप तनाव जैसी समस्याओं से लड़ सकें।

कार्बोहाइड्रेट जरूरी
अपने आहार में कार्बोहाइड्रेट्स शामिल करें। चावल, पास्ता, आलू, ब्रेड, लो कैलोरीज कुकीज काबरेहाइड्रेट के प्रमुख स्रोत हैं। अगर आप एक दिन में एक बेक्ड आलू या एक कप स्पैगटी या ब्राउन राइस लेते हैं तो आपका पूरा दिन चिंतामुक्त गुजरेगा।

हाई बीपी हो तो डार्क चॉकलेट
विशेषज्ञों का कहना है कि प्रतिदिन डार्क चॉकलेट खाने से बीपी घटता है और हृदय संबंधी बीमारियों का खतरा 21 प्रतिशत तक कम होता है। चॉकलेट में फील गुड फैक्टर होता है जो डिप्रेशन जैसी बीमारियों में दवाओं की तरह काम करता है। चॉकलेट में मौजूद फिनाइल इथाइल अमीन (पीइए) से शरीर में कुछ प्राकृतिक रसायन बनते हैं, जिनसे आप अच्छा महसूस करते हैं।

केला
केले में पाये जाने वाला पोटेशियम और मैग्नीशियम मानसिक तनाव को कम करता है।

ग्रीन टी
ग्रीन टी के नियमित सेवन से न सिर्फ विभिन्न बीमारियों पर नियंत्रण किया जा सकता है, बल्कि इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है। ग्रीन टी में अमीनो एसिड होता है जो एंजाइटी और तनाव से छुटकारा दिलाने में सहायक होता है।

संतरा और अमरूद
संतरे में मौजूद फ्रुक्टोज, डेक्स्ट्रोज, खनिज एवं विटामिन शरीर में पहुंचते ही ऊर्जा देना आरंभ कर देते हैं। संतरे का रस तन-मन को शीतलता प्रदान कर थकान एवं तनाव दूर करता है। अमरूद से मानसिक चिंताएं भी दूर होती हैं।

अखरोट
अमेरिका की पेन स्टेट यूनिवर्सिटी के अनुसंधानकर्ताओं ने एक अध्ययन के बाद कहा कि जिन लोगों में कोलेस्ट्रोल का स्तर अधिक होता है, वे अगर तीन सप्ताह तक अखरोट का सेवन करें, लाभ होगा।

दूध
रोजाना एक गिलास दूध पीना दिमाग के लिए बहुत लाभदायक है। दूध के कई फायदों से हम परिचित हैं। इनमें हड्डियों और दिल को होने वाला लाभ भी शामिल है। लेकिन इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह दिमाग को तरोताजा रखता है। इससे स्मरणशक्ति तेज होती है। रोजाना एक गिलास दूध पीने से शारीरिक और बौद्धिक स्तर भी बेहतर होता है।

फास्ट फूड और तनाव

अगर आप सोचते हैं कि हफ्ते या महीने में एक या दो बार फास्ट फूड खाने से शरीर पर कुछ खास असर नहीं पड़ेगा तो बिल्कुल गलत सोचते हैं। फास्ट फूड खाने से हमारे शरीर पर सीधा प्रभाव पड़ता है और हम किसी विषय पर तुरंत प्रतिक्रिया व्यक्त करते हैं। कैलेग्रे विश्वविद्यालय द्वारा किए गए शोध के अनुसार फास्ट फूड का अधिक सेवन करने वाले लोगों के शरीर में तनाव झेलने की क्षमता कम होती है और वे तनाव पर अपेक्षाकृत जल्द ही प्रतिक्रिया करते हैं। इस लिए इसके सेवन से बचें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तनाव भगाए सही खानपान