DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऑस्ट्रेलिया दौरा बहुत 'मिस' किया : हरभजन

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हमेशा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह को इस बात का गहरा अफसोस है कि वह हाल के ऑस्ट्रेलिया दौरे में टीम इंडिया का हिस्सा नहीं थे।
 
हरभजन ने यहां चल रहे इंडिया टूडे सम्मेलन में "राइजिंग फ्रॉम द एशेज' सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि मैंने निश्चित ही ऑस्ट्रेलिया दौरा बहुत मिस किया लेकिन मैं यह नहीं जानता कि टीम भी मुझे मिस कर रही थी कि नहीं। भारत ऑस्ट्रेलिया में चार टेस्टों की सीरीज 0-4 से हार गया था और त्रिकोणीय सीरीज के फाइनल में भी नहीं पहुच पाया था।
 
खराब फॉर्म के कारण टीम इंडिया की टेस्ट और वनडे टीमों से बाहर चल रहे हरभजन ने कहा कि मैंने अपना टेस्ट करियर 1998 में बेंगलुरु में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ साढ़े 17 साल की उम्र में किया था। उस समय मैं जैसे सातवें आसमान पर था और मेरा देश के लिए खेलने का सपना पूरा हो गया था।
 
उन्होंने कहा कि मुझे आज भी याद है कि मैं सचिन, सौरभ, कुंबले और द्रविड जैसे महान खिलाड़ियों के साथ ड्रेसिंग रूम साझा कर रहा था लेकिन उसके बाद मैं एक वर्ष तक टीम से बाहर रहा और तब मैंने महसूस किया कि मुझे टीम में वापस लौटना है क्योंकि जब आप टीम में होते हैं तभी लोग आपके पास होते हैं।

टीम इंडिया में वापसी के लिए छटपटा रहे भज्जी ने कहा कि मैं 2000 में टीम में वापस लौटा और वर्ष 2001 में हमने ऑस्ट्रेलिया जैसी शक्तिशाली टीम को हराया। उस सीरीज में मैंने 32 विकेट हासिल किए और हैट्रिक लेने वाला पहला भारतीय बना। उस सीरीज से हमें आत्मविश्वास मिला कि हम किसी भी टीम को हरा सकते हैं।
 
टीम इंडिया की सफलताओं पर हरभजन ने कहा कि टीम में हम हमेशा एक दूसरे पर विश्वास रखते हैं। जब हमने 2007 में टी20 विश्वकप जीता था तो मैंने दो दिन तक अपना मेडल नहीं उतारा था। मुझे उम्मीद है मौजूदा समय में चीजें बदलेंगी और हम फिर से पुरानी ऊचाइंयों पर होंगे। आपको इस टीम पर भरोसा रखना होगा।
 
हरभजन ने माना कि सचिन, द्रविड, कुंबले और सहवाग जैसे खिलाड़ियों का विकल्प मिलना काफी मुश्किल काम है लेकिन देश में प्रतिभाशाली खिलाड़ी मौजूद हैं जो भारत के लिए खेल सकते हैं। टर्बनेटर के नाम से मशहूर हरभजन ने खुद के लिए कहा कि बेशक वह टीम से बाहर हैं लेकिन वह घरेलू क्रिकेट खेलकर टीम में लौटने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं। उन्होंने कहा जब आप कि उम्र बढ़ने लगती है तो बेहतर होता है कि आप अपनी बैट्री रिचार्ज करें खुद को फिट रखें और फिर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में फिट होकर लौटें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ऑस्ट्रेलिया दौरा बहुत 'मिस' किया : हरभजन