चुनाव में व्यापक युवा भागीदारी की जुगत में चुनाव आयोग - चुनाव में व्यापक युवा भागीदारी की जुगत में चुनाव आयोग DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चुनाव में व्यापक युवा भागीदारी की जुगत में चुनाव आयोग

गुजरात में पहली बार वोट डालने वाले कुछ मतदाताओं के मतदान और उम्मीदवारों के चयन को लेकर पूरी तरह निश्चिंत नहीं होने के बीच चुनाव आयोग ने चुनाव में युवाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए जागरुकता कार्यक्रम शुरू किए हैं।

कुछ मतदाताओं ने कहा है कि वह भ्रष्ट उम्मीदवारों को वोट देना नहीं चाहते, जबकि कुछ अन्य यह महसूस करते हैं कि मताधिकार का उपयोग करना उनकी जिम्मेदारी है। चुनाव आयोग युवा मतदाताओं को अपने मताधिकार के इस्तेमाल के लिए उत्साहित करने के उद्देश्य से व्यवस्थित मतदाता शिक्षा एवं चुनावी सहभागिता (एसवीईईपी) जैसे कार्यक्रम चला रहा है। यह कार्यक्रम वर्ष 2009 में शुरू हुआ था।

इस कार्यक्रम के तहत आयोग बड़े पैमाने पर लोगों के बीच सूचनाएं पहुंचाता है, ताकि युवा और नए योग्य मतदाताओं को मतदान के लिए उत्साहित किया जा सके। चुनाव आयोग की वेबसाइट के अनुसार, आयोग ने मतदान की संस्कृति के प्रसार करने के लिए कदम उठाए हैं। आयोग कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में भी जा रहा है तथा वहां सहभागी लोकतंत्र के मूल्यों पर संगोष्ठियां, कार्यशालाएं और व्याख्यान आयोजित कर रहा है।

वकील प्रशिक्षु 25 वर्षीय जीत पटेल ने कहा कि मतदान महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह मौलिक अधिकार है। मतदान नहीं करके, हम चीजों में सुधार करने या क्रांति शुरू करने नहीं जा रहे। जीत पटेल पहली बार मतदान करेंगे, क्योंकि वह मतदाता सूची में गड़बड़ियों की वजह से पिछली बार मतदान से चूक गया था। उनहोंने कहा कि मैं ऐसे उम्मीदवार को वोट करूंगा, तो अपना वायदा पूरा कर सके तथा जरूरी विकास कर सके।

जहां जीत के लिए मतदान वांछित सामाजिक बदलाव लाने का माध्यम है, वहीं मैकेनिकल अभियांत्रिकी के स्नातक विष्णु मेनन के लिए इससे कुछ होना-जाना नहीं है वाली बात है। विष्णु ने कहा कि मैं मतदान नहीं करूंगा, क्योंकि मैं उन्हीं भ्रष्ट लोगों के लिए मतदान कैसे कर पाउंगा। मेरे लिए, मतदान बस धन और समय की बर्बादी है।

बहरहाल, जामनगर निवासी 24 वर्षीय संकेत सिनोजिया महसूस करते हैं कि मतदान से जिम्मेदारी आती है। उन्होंने कहा कि बतौर जिम्मेदार नागरिक, मतदान करना मेरा कर्तव्य है। यदि हम अच्छी सरकार चाहते हैं, तो शिक्षित जनता के लिए मतदान करना अहम है। इसी बीच राजनीतिक दल भी नए मतदाताओं को लुभाने में लग गए हैं।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की युवा शाखा भारतीय जनता युवा मोर्चा के महासचिव हितेश पटेल ने कहा कि हम नए मतदाताओं को जोड़ने तथा राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं के बारे में जागरुकता फैलाने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं। गुजरात युवक कांग्रेस के अध्यक्ष मानसिंह डोडिया ने कहा कि राज्य के विभिन्न विश्वविद्यालयों में पार्टी द्वारा शुरू किए गए सदस्यता अभियान को अच्छी प्रतिक्रिया मिली है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चुनाव में व्यापक युवा भागीदारी की जुगत में चुनाव आयोग