DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत में और निवेश करना चाहती है फॉक्सवैगन

जर्मनी की वाहन कंपनी फॉक्सवैगन समूह ने भारत में छोटी कार सहित कई वाहन उतारने की योजना बनाई है। हालांकि, कंपनी का साथ ही कहना है कि अधिक निवेश को आकर्षित करने के लिए नीतियां बेहतर होनी चाहिए।
    
फॉक्सवैगन समूह उपाध्यक्ष (बिक्री एवं विपणन) क्रिस्टियन क्लिंगर ने कहा कि भारत हमारे लिए काफी महत्वपूर्ण बाजार है। आर्थिक और कानूनी परिस्थितियां स्थिर होनी चाहिए, पर भारत के साथ हमेशा ऐसा नहीं होता। भारत में इस एक मुद्दे को हल किए जाने की जरुरत है।
     
कंपनी की भारतीय इकाई का संयंत्र महाराष्ट्र में है। राज्य सरकार द्वारा मूल्यवर्धित कर (वैट) रिफंड नीति में बदलाव के बाद कई कंपनियां प्रभावित हुई हैं और फॉक्सवैगन भी उनमें से एक है। इससे पहले निवेशकों को आकर्षित करने के लिए राज्य सरकार उन कंपनियों को वाहन की बिक्री पर वैट रिफंड करती थी, जिनका राज्य में कारखाना है।
    
पिछले साल इस नीति में बदलाव करते हुए राज्य सरकार ने कहा कि वह सिर्फ उन वाहनों पर वैट का रिफंड करेगी, जिनकी बिक्री राज्य में होगी, बाहर नहीं। महिंद्रा एंड महिंद्रा, जनरल मोटर्स इंडिया और बजाज आटो जैसी अन्य कंपनियों ने भी नीति में बदलाव पर राज्य सरकार से आपत्ति जताई है।
  
भारत में समूह की निवेश बढ़ाने की योजना के बारे में पूछे जाने पर क्लिंगर ने कहा, हम तैयारी कर रहे हैं और भारत में कई परियोजनाएं शुरू करने को तैयार हैं। फिलहाल हम इसके बारे में कुछ नहीं कह सकते। जल्द इसकी घोषणा की जाएगी।
    
इससे पहले इसी साल फॉक्सवैगन ने कहा था कि वह भारत में 2013 तक क्षमता विस्तार के लिए कम से कम 2,000 करोड़ रुपये का निवेश करेगी। कंपनी ने कहा था कि वह भारत में नए मॉडल उतारेगी और अनुसंधान गतिविधियां बढ़ाएगी।
     
भारत में कंपनी कई माडलों के साथ अपनी छोटी कार अप को उतारने की योजना बना रही है। फॉक्सवैगन समूह के चेयरमैन मार्टिन विंटरकॉर्न ने कहा कि फिलहाल हम भारत और चीन में अप के लिए बाजार अवसरों का अध्ययन कर रहे हैं।
     
हालांकि, उन्होंने स्पष्ट किया कि इस बारे में कोई पुख्ता निर्णय नहीं लिया गया है। विंटरकॉर्न ने कहा, भारत और चीन में अप कार उतारने के बारे में अभी कोई निश्चित फैसला नहीं किया गया है। हमें देखना और इंतजार करना होगा। हमें देखना होगा कि भारत में बाजार कैसे विकसित होता है। हालांकि यह चीन की तुलना में धीमी गति से बढ़ेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत में और निवेश करना चाहती है फॉक्सवैगन