DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

FDI से छोटी इकाइयां नहीं होंगी प्रभावित: वीरभद्र

बहु-ब्रांड खुदरा कारोबार में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) पर मचे शोर-शराबे पर सवाल उठाते हुए सूक्ष्म, लघु और मध्यम उपक्रम मंत्री वीरभद्र सिंह ने शुक्रवार को कहा कि वैश्विक खुदरा कंपनियों के लिए इस क्षेत्र को खोलने से छोटे उद्योगों के हित प्रभावित नहीं होंगे। उन्होंने कहा भारत बहुत बड़ा देश है। हर गांव और शहर में खुदरा विक्रेता हैं। कितने स्टोर खुलेंगे।

सिंह ने कहा कि बहु-ब्रांड खुदरा कंपनियां ज्यादा से ज्यादा 50 स्टोर खोलेंगी। इससे एक बड़े देश के छोटे उद्योग को कोई खतरा नहीं होगा। एफडीआई नीति के तहत वैश्विक कंपनियां उन्हीं शहरों तक सीमित रहेंगी जहां की जनसंख्या 10 लाख से अधिक है।

उन्होंने कहा कि यदि राज्यों को इस नीति से कोई समस्या है तो वे बड़ी कंपनियों अपने स्टोर खोलने से रोकने के लिए पूरी तरह स्वतंत्र हैं। सिंह ने कहा कि मुक्षे नहीं समक्ष में आता कि एफडीआई पर इतना शोरशराबा क्यों हैं। जो राज्य चाहे वह अनुमति दे सकता है। यदि वे नहीं चाहते हैं तो न दें। इस संबंध में कोई अनिवार्यता नहीं है। इस बारे में इतना शोरगुल क्यों है।
   
मंत्री ने कहा कि वैश्विक कंपनियों द्वारा खरीद के सारे आर्डर में घरेलू सूक्ष्म और लघु उपक्रमों के लिए 30 फीसद आरक्षरण देने का सुझाव मंत्रिमंडल ने स्वीकार कर लिया । इन वैश्विक कंपनियों के लिए यह खरीद भारतीय इकाइयों से ही करनी होगी, यह बात वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री आनंद शर्मा साफ कर चुके हैं।

उन्होंने कहा कि इस नीति को वापस लिए जाने का सवाल ही पैदा नहीं होता क्योंकि यह पहल राष्ट्रीय हित में की गई है इसको वापस लेने से देश को कोई फायदा नहीं होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: FDI से छोटी इकाइयां नहीं होंगी प्रभावित: वीरभद्र