DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीमैट 2012 परीक्षा, नए पैटर्न में आजमाएं खुद को

मैनेजमेंट प्रोग्राम्स में दाखिला पाने के लिए छात्रों को कई सारी प्रवेश परीक्षाएं देनी होती हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए पहली बार एआईसीटीई द्वारा कॉमन मैनेजमेंट एडमिशन टेस्ट 2012 का आयोजन किया जा रहा है। इसमें हासिल स्कोर एआईसीटीई संबद्ध सभी संस्थानों में मान्य होगा।

कॉमन मैनेजमेंट एडमिशन टेस्ट (सीमैट) का आयोजन ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (एआईसीटीई) द्वारा किया गया है। देश में पहली बार आयोजित होने वाली इस सम्मिलित परीक्षा के बाद उम्मीदवार एआईसीटीई से संबद्ध सभी कॉलेज/ इंस्टीटय़ूट में दाखिला पा सकते हैं। हालांकि आईआईएम व अन्य प्रमुख संस्थान इस पैनल से दूर हैं। इसमें सफल उम्मीदवार डिग्री, डिप्लोमा व पोस्ट ग्रेजुएट लेवल के मैनेजमेंट प्रोग्राम में सत्र 2012-13 में दाखिला पा सकते हैं। इसमें रजिस्ट्रेशन से लेकर एग्जाम तक की पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन है। 

करीब चार लाख सीटों के लिए होने वाले इस टेस्ट का आयोजन देश में 61 सेंटरों पर किया जाएगा। नौ दिनों तक चलने वाली इस परीक्षा में उम्मीदवार अपनी सुविधा से स्लॉट बुक करवा सकते हैं। 

कब बैठ सकते हैं टेस्ट में
इस टेस्ट में वही उम्मीदवार सम्मिलित हो सकते हैं, जो बैचलर डिग्री 50 प्रतिशत अंकों सहित पास कर चुके हों। ग्रेजुएशन अंतिम वर्ष की परीक्षा में बैठ रहे छात्र भी इसमें रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। हालांकि इसमें उम्र-सीमा का कोई प्रावधान नहीं रखा गया है। रजिस्ट्रेशन के बाद उम्मीदवार 30 जनवरी 2012 को अपना टिकट बुक कर सकते हैं। परिणाम की घोषणा 11 मार्च 2012 को की जाएगी।

परीक्षा चार भागों में होगी
सीमैट में उम्मीदवार को चार सेक्शनों के उत्तर देने होते हैं, जिनमें क्वांटिटेटिव टेक्निक्स एवं डाटा इंटरप्रिटेशन, लॉजिकल रीजनिंग, लैंग्वेज कॉम्प्रिहेंशन, जनरल अवेयरनेस शामिल हैं। इसमें कुल 100 प्रश्न पूछे जाएंगे तथा इसके लिए तीन घंटे का समय भी निर्धारित होगा। प्रश्नों का स्वरूप बहुविकल्पीय होगा तथा प्रत्येक के चार विकल्प दिए होंगे। उम्मीदवार एक सेक्शन से दूसरे सेक्शन पर आसानी से जा भी सकते हैं।

एग्जाम के दौरान प्रत्येक सेक्शन को पूरा करने के बाद छात्र चाहें तो उसकी समीक्षा भी कर सकते हैं। लेकिन इसके लिए अलग से कोई टाइम नहीं दिया जाता है। साथ ही उम्मीदवार को स्क्रैच पेपर दिया जाता है। परीक्षा खत्म होने के बाद उसे वहीं छोड़ना होता है। इसमें उम्मीदवार को पहले से बुक किए गए कंप्यूटर/ टर्मिनल पर बैठना होता है। टेस्ट के दौरान कोई ब्रेक भी नहीं मिलता।

निगेटिव मार्किग से बचके रहें
इस परीक्षा में निगेटिव मार्किग होने के कारण छात्र उन्हीं प्रश्नों को पहले हल करें, जो उन्हें अच्छी तरह से आते हों। यदि कोई प्रश्न नहीं आ रहा है तो उसे छोड़कर आगे बढ़ जाएं। शेष समय में छूटे प्रश्नों को हल करने की कोशिश करें। एक सवाल का उत्तर गलत होने पर एक अंक काटा जाएगा।

विश्लेषण करना सीखें
लैंग्वेज कॉम्प्रिहेंशन के सेक्शन में प्रश्न रीडिंग कॉम्प्रिहेंशन व वर्बल एबिलिटी से पूछे जा सकते हैं। रीडिंग कॉम्प्रिहेंशन मजबूत करने के लिए नियमित अंग्रेजी की पत्र-पत्रिकाओं को पढ़ें-समझों, वहीं वर्बल एबिलिटी में व्याकरण के क्षेत्र को मजबूत बनाने की आवश्यकता होगी। अंग्रेजी -हिंदी की पत्र-पत्रिकाओं में संपादकीय पेज पर जोर दें। ग्रामर में एनालॉजी, फिल इन दि ब्लैंक्स, वॉकेबुलरी आदि पर आधारित  प्रश्न आते हैं।

अर्थमेटिक में पा सकते हैं अच्छे अंक
क्वांटिटेटिव स्किल्स के सेक्शन में अर्थमेटिक से अधिक प्रश्न पूछे जा सकते हैं और अल्जेब्रा व मैंसुरेशन दूसरे सबसे अधिक अंक वाले टॉपिक हो सकते हैं। अल्जेब्रा में इक्वेशन का महत्व होता है। इनका स्तर दसवीं का ही होता है। एनसीईआरटी की पुस्तकें इसके लिए सबसे उपयुक्त हो सकती हैं। इसकी प्रैक्टिस के लिए सॉल्व्ड पेपर भी उपयुक्त माने जाते हैं। डाटा इंटरप्रिटेशन व डाटा सफिशिएंसी के प्रश्नों का नियमित अभ्यास करें।

सामान्य ज्ञान बढ़ाएं
जनरल अवेयरनेस सेक्शन में भूगोल, विज्ञान, संविधान, इतिहास, प्रबंधन, राजनीतिक विज्ञान, तथा देश-दुनिया आदि से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं। इस तरह इस सेक्शन का दायरा काफी बड़ा हो जाता है। अत: नियमित अध्ययन के साथ खास रणनीति बनाकर चलें। एनसीईआरटी की पुस्तकें भी पढ़ें।

आधारभूत सिद्धांतों पर बनाएं पकड़
चाहे क्वांटिटेटिव एबिलिटी का सेक्शन हो या लैंग्वेज स्किल्स का, दोनों में ही बेसिक क्लियर होंगे तभी उत्तर आसानी से दिया जा सकता है। गणित में जहां अर्थमेटिक, अल्जेब्रा, मैंसुरेशन आदि की आधारभूत जानकारी आवश्यक है, वहीं अंग्रेजी में व्याकरण पर फोकस करने की जरूरत है।

इन बातों पर रहे खास ध्यान

जो आसान लगे, उसे सबसे पहले करें।
प्रश्न हल करते हुए समय-सीमा का भी ध्यान रखें।
कम समय में सही हल करने का अभ्यास करें।
ऑनलाइन मॉक टेस्ट का नियमित अभ्यास करें।

ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन व अधिक जानकारी के लिए संस्थान की वेबसाइट www.aicte-cmat.in विजिट करें

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सीमैट 2012 परीक्षा, नए पैटर्न में आजमाएं खुद को