DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इस साल 8.6 फीसदी ब्याज दे सकता है ईपीएफओ

वित्त वर्ष 2011-12 के लिए भविष्यनिधि पर ब्याज दर में 1.25 प्रतिशत की भारी कटौती को लेकर चौतरफा आलोचना झेल रहा कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) चालू वित्त वर्ष यानी 2012-13 में इसे बढ़ाकर 8.6 फीसदी कर सकता है। इससे उसके 5 करोड़ अशंधारकों को फायदा पहुंचेगा।

पिछले महीने ईपीएफओ ने वर्ष 2011-12 के लिए ब्याज दर घटाकर 8.25 फीसदी कर दी थी। जबकि 2010-11 में उसने 9.5 प्रतिशत की दर से ब्याज दिया था। ईपीएफओ के इस फैसले की संसद के भीतर और बाहर काफी आलोचना हुई थी।

एक सूत्र ने बताया कि ईपीएफओ चालू वित्त वर्ष में 8.6 प्रतिशत ब्याज उपलब्ध कराने के लिए आमदनी के अनुमान पर काम कर रहा है। सूत्र ने कहा कि ईपीएफओ के निर्णय लेने वाले निकाय श्रम मंत्री की अगुवाई  वाले केंद्रीय न्यासी बोर्ड की अगले माह बैठक हो सकती है जिसमें इस पर विचार होगा।

सूत्र ने कहा कि ईपीएफओ चालू वित्त वर्ष में ज्यादा रिटर्न दे सकता है, क्योंकि सरकार ने विशेष जमा योजना 1975 पर एक दिसंबर, 2011 से ब्याज दर 8 से बढ़ाकर 8.6 फीसदी कर दी है। केंद्र सरकार द्वारा 1 जुलाई, 1975 को शुरू की गई इस योजना में ईपीएफओ ने 55,000 करोड़ रुपये लगा रखे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इस साल 8.6 फीसदी ब्याज दे सकता है ईपीएफओ