DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुस्से के समय आदमी जैसे होते हैं कुत्ते

आदमी और उसका सबसे अच्छा मित्र कहे जाने वाले कुत्ते में कुछ समानताएं हैं। दोनों जब आपे से बाहर होते हैं तो आक्रामक व्यवहार करने लगते हैं।
  
यूनिवर्सिटी ऑफ लिली नार्ड डे फ्रांस के अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि कुत्ते जब स्व नियंत्रण से बाहर होते हैं तो वे अधिक आवेग वाले फैसले करते हैं जिससे वे खतरे में पड़ जाते हैं।

अग्रणी अनुसंधानकर्ता होली मिलर ने कहा कि साइकोनामिक बुलेटिन एंड रिव्यू नाम की पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन रिपोर्ट स्व नियंत्रण की जैविकीय प्रक्रिया के बारे में बताती है।
  
मिलर ने लाइवसाइंस को बताया, जब मानव कमजोर स्थिति में होता है तो वह कम मददगार, अधिक आक्रामक, अधिक दांव पर लगाने वाला, इत्यादि होता है।

उन्होंने कहा कि इन परिणामों की जैविकीय जड़ें भी होती हैं। जब कुत्ते कमजोर स्थिति में होते हैं तो उनके भी अधिक अविवेकपूर्ण और जल्दबाजी भरा व्यवहार करने की संभावना होती है।
  
अपने अध्ययन में अनुसंधानकर्ताओं ने पालतू कुत्तों पर प्रयोगशाला में प्रयोग किए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गुस्से के समय आदमी जैसे होते हैं कुत्ते