DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

देव आनंद एक जीवन गाथा

सदाबहार अभिनेता देवआनंद नहीं रहे। उनका लंदन में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। आइए जानें इस महान कलाकार के जीवन के कुछ खास पल।

- अभिनेता के तौर पर देव आनंद के करियर की शुरुआत वर्ष 1946 में 'हम एक हैं' फिल्म से हुई थी। वर्ष 1947 में जिद्दी प्रदर्शित हुई और तब तक बॉलीवुड पर देव आनंद की सफलता का परचम लहरा चुका था।

- भारतीय सिनेमा में उल्लेखनीय योगदान देने वाले देव आनंद वर्ष 2001 में प्रतिष्ठित पद्म भूषण सम्मान से विभूषित किए गए और 2002 में उन्हें दादा साहेब फाल्के पुरस्कार प्रदान किया गया।

- देव आनंद ने पेइंग गेस्ट, बाजी, ज्वैल थीफ, सीआईडी, जॉनी मेरा नाम, अमीर गरीब, वारंट, हरे राम हरे कृष्ण और देस परदेस जैसी कई हिट फिल्में दी।

- देव साहब ने वर्ष 1949 में अपनी प्रोडक्शन कंपनी नवकेतन इंटरनेशनल फिल्म की स्थापना की और 35 से ज्यादा फिल्मों का निर्माण किया।

- देव आनंद ने दो फिल्मफेयर पुरस्कार जीते। एक वर्ष 1958 में काला पानी के लिए और दूसरा 1966 में गाइड में अपने अभिनय के लिए।

- गाइड को सर्वश्रेष्ठ फिल्म और सर्वश्रेष्ठ निर्देशक सहित पांच श्रेणियों में फिल्मफेयर पुरस्कार मिला और उस वर्ष इसे ऑस्कर में भी भेजा गया। उन्हें इस फिल्म के लिए फिल्मफेयर पुरस्कार भी मिला।

- वर्ष 1993 में देव आनंद को फिल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड और 1996 में स्क्रीन वीडियोकॉन लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया गया।

- देव आनंद ने अभिनेत्री कल्पना कार्तिक से शादी की। एक फिल्म में कल्पना कार्तिक के साथ देवआनंद। देव आनंद तीन भाई थे। उनके भाई चेतन आनंद और विजय आनंद हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:देव आनंद एक जीवन गाथा