DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रक्षा मंत्रालय ने छह कंपनियों को ब्लैकलिस्ट किया

रक्षा मंत्रालय ने आयुध कारखाना घोटाले में कथित भूमिका के लिए सिंगापुर, इस्राइल और जर्मनी की कुछ नामी कंपनियो समेत छह फर्मों को काली सूची में डाल दिया है। इनमें सिंगापुर टेक्नोलॉजीज, इस्राइली मिल्रिटी इंडस्ट्री और जर्मनी की रीनमेटल एयर डिफेंस भी शामिल हैं।

काली सूची में डाली गई कंपनियों में दो भारतीय और एक रूसी कंपनी भी शामिल है। आयुध कारखाना महानिदेशक सुदिप्ता घोष के खिलाफ सीबीआई ने रक्षा घोटाले में कथित भूमिका के लिए आरोपपत्र दायर किया है। इन कंपनियों को भी इसी मामले में ब्लैकलिस्ट किया गया है।

रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों ने आज कहा कि सुदित्पा घोष के खिलाफ अवैध रूप से लाभ लेने के मामले में दायर आरोपपत्र के बाद सीबीआई ने उसके द्वारा जुटाए गए सबूतों के आधार पर इन कंपनियों को ब्लैकलिस्ट करने की सिफारिश की थी।

जिन दो भारतीय कंपनियों को काली सूची में डाला गया है, उनमें दिल्ली की टी एस किशन एंड कंपनी तथा लुधियाना की आर के मशीन टूल शामिल हैं। रूसी कंपनी कारपोरेशन डिफेंस को भी ब्लैकलिस्ट किया गया है। इसमें कहा गया है कि ये कंपनियां 10 साल तक रक्षा मंत्रालय के तहत आयुध कारखाना बोर्ड और रक्षा उत्पादन विभाग के साथ किसी तरह का कारोबार नहीं कर सकेंगी। अधिकारियों ने कहा कि इन कंपनियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है कि क्यों न सुदिप्ता घोष के खिलाफ आरोपपत्र दायर होने के बाद उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रक्षा मंत्रालय ने छह कंपनियों को ब्लैकलिस्ट किया