DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हॉकी खिलाड़ियों में एकता नहीं है : दीपक ठाकुर

दो बार के ओलंपियन दीपक ठाकुर का मानना है कि भारतीय हॉकी खिलाड़ियों में एकता का अभाव है और वे हमेशा से खेल के प्रशासकों से खौफ खाते आए हैं।
    
विश्व सीरिज हॉकी में शेर ए पंजाब के लिए खेल रहे भारत के इस पूर्व फॉरवर्ड ने कहा कि हमारे बीच एकता ही नहीं है। हम अपने हितों के बारे में सोचते हैं। यदि ऐसा नहीं होता तो हॉकी इंडिया खिलाड़ियों को विश्व सीरिज हॉकी में भाग लेने से कैसे रोक पाता जो इंग्लिश प्रीमियर लीग के स्तर की है। मैं उन खिलाड़ियों के सामने यह बात कह सकता हूं।
      
होशियारपुर में जन्में इस 31 वर्षीय खिलाड़ी ने हॉकी इंडिया को भी आड़े हाथों लेते हुए कहा कि हॉकी इंडिया ने राष्ट्रीय शिविर के लिए चुने गए संभावित खिलाड़ियों को सीरिज में भाग नहीं लेने दिया पर शिविर कहां है। शिविर के कोई संकेत नहीं है और खिलाड़ी इधर उधर घूम रहे हैं। इससे तो अच्छा होता कि वे सीरिज में खेलते ताकि पूरे फिट रहते।
     
सिडनी (2000) और एथेंस (2004) ओलंपिक खेल चुके ठाकुर ने कहा कि ओलंपिक की तैयारी कहां हो रही है। उन्होंने कहा था कि ओलंपिक के चार महीने पहले शिविर शुरू होगा। विश्व सीरिज हॉकी में नहीं खेलने से खिलाड़ियों और भारतीय हॉकी का नुकसान है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हॉकी खिलाड़ियों में एकता नहीं है : दीपक ठाकुर