DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'आईपीएल-2 से पहले ही मिला था सीएसए को बोनस'

क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका के एक पूर्व अधिकारी ने दावा किया है कि बोर्ड के अधिकारियों को आईपीएल 2009 की मेजबानी के लिए विवादास्पद भुगतान हासिल करने से पहले ही अनधिकत बोनस मिलना शुरू हो गया था। खेल मंत्री फिकली मबालुला ने इस मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

सीएसए बोर्ड की पारिश्रमिक समिति के अध्यक्ष रहे पाल हैरिस ने जज क्रिस निकोलसन की अगुवाई वाली जांच समिति की खुली सुनवाई के पहले दिन ही यह दावा किया। बुधवार को हुई सुनवाई से पहले मीडिया को दूर रखा गया था लेकिन निकोलसन ने इसे बड़े स्थान पर आयोजित करवाया और मीडिया को भी इसमें आने की अनुमति दी।

हैरिस ने आईपीएल दो के लिये बोर्ड की मंजूरी के बिना सीईओ गेराल्ड मजोला और अन्य पदाधिकारियों को दिए मोटे बोनस का खुलासा किया था। इसके बाद उन्हें बोर्ड से हटा दिया गया था। उन्होंने जांच समिति को बताया कि जब दक्षिण अफ्रीका में 2007 में विश्वकप टवेंटी 20 का आयोजन किया गया तो इसी तरह का अनधिकत पैसा मिला था। उन्होंने कहा कि तब टूर्नामेंट के निदेशक स्टीव एलोवर्थी को बोनस मिला था।

हैरिस ने कहा कि सीएसए के पास धन आता था और फिर उसे इधर उधर कर दिया जाता था। मुझे लगता है कि इसी वजह से भुगतानों का खुलासा नहीं करने का चलन भी शुरू हुआ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:'आईपीएल-2 से पहले ही मिला था सीएसए को बोनस'