DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

...जब नसबंदी के लिए सुशील मोदी को लगाने पड़े चक्कर

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने गुरुवार को कहा कि परिवार नियोजन के कार्यक्रम में नसबंदी को प्रोत्साहित करने के लिए पुरुषों को नजरिया बदलने की दरकार है और आगे आना चाहिए।

मोदी ने कहा कि अपने परिवार में मिसाल कायम करने के लिए मैं स्वयं आगे आकर नसबंदी कराने गया, लेकिन पीएमसीएच में कई दिनों तक चक्कर काटने के बाद नसबंदी करने वाला डाक्टर नहीं मिला। उन्होंने कहा कि पुरुषों को आगे आकर मानसिकता बदलनी चाहिए। परिवार नियोजन कार्यक्रम में नसबंदी का जिम्मा केवल महिलाओं का नहीं है।
उपमुख्यमंत्री आज विधानसभा में बजट 2012-13 पर चर्चा का सरकार की ओर से जवाब दे रहे थे, जिसमें उन्होंने बताया कि एक दशक में बिहार की आबादी 25 फीसदी बढ़ जाती है, इसलिए गरीबी बढ़ती जाती है भले ही आर्थिक विकास दर ऊंची हो।     

उन्होंने कहा कि देश में आबादी में बढ़ोत्तरी की रफ्तार बिहार में सबसे अधिक है। इसलिए परिवार नियोजन पर विशेष ध्यान देने की दरकार है। पुरुष नसबंदी के लिए आगे आकर बड़ा योगदान कर सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:...जब नसबंदी के लिए सुशील मोदी को लगाने पड़े चक्कर