DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बादल ने दावा पेश किया, 14 मार्च को शपथ ग्रहण

पंजाब में शिरोमणि अकाली दल-भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) गठबंधन विधायक दल ने शुक्रवार को औपचारिक रूप से प्रकाश सिंह बादल को विधायक दल का नेता चुन लिया। 84 वर्षीय बादल पांचवीं बार राज्य के मुख्यमंत्री बनेंगे।

गठबंधन के नेता बादल के नेतृत्व में राज्यपाल शिवराज पाटील से मिले और सरकार बनाने का औपचारिक दावा पेश किया। पाटील ने बादल को सरकार बनाने का आमंत्रण पत्र सौंपा। बादल बुधवार (14 मार्च) को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।

इससे पूर्व गठबंधन के साझेदारों की यहां बैठक हुई जिसमें दोनों दलों के वरिष्ठ नेता मौजूद थे। भाजपा के वरिष्ठ नेता शांता कुमार ने बादल का नाम सुझाया और पंजाब भाजपा के अध्यक्ष अश्विनी शर्मा ने औपचारिक रूप से वह नाम प्रस्तावित किया। अकाली दल के अध्यक्ष एवं बादल के बेटे सुखबीर सिंह बादल ने प्रस्ताव का समर्थन किया।

नेता चुने जाने के बाद बादल ने परिहास के अंदाज में कहा, ‘‘1969 में मैं देश में सबसे युवा मुख्यमंत्री बना था और अब मैं देश में सबसे बूढ़ा मुख्यमंत्री बनने जा रहा हूं।’’ बादल ने कहा कि अकाली दल-भाजपा गठबंधन भावनात्मक जुड़ाव के कारण बना, राजनीतिक सोच-विचार के तहत नहीं।

शपथ ग्रहण समारोह राजभवन के बजाय यहां से 20 किलोमीटर दूर मोहाली जिले के ऐतिहासिक चप्पाड़ चिरी स्मारक स्थल पर आयोजित होगा। वर्ष 2007 में बादल ने पंजाब क्रिकेट एसोसिएशन के स्टेडियम में हजारों समर्थकों के सामने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी।

इससे पहले मुख्यमंत्री के नाम पर अकाली दल और राजनीति के गलियारों में अटकलें लाई जा रही थीं कि प्रकाश सिंह बादल मुख्यमंत्री बनने को राजी होंगे या अपने बेटे को पद संभालने के लिए कहेंगे।

निवर्तमान सरकार में सुखबीर सिंह बादल उपमुख्यमंत्री थे। विधानसभा चुनाव में उन्होंने ही प्रचार की कमान संभाली थी। गठबंधन को मिली ऐतिहासिक जीत का श्रेय उन्हें ही दिया जा रहा है। गुरुवार को विधायक दल की बैठक के बाद उन्होंने घोषणा की थी कि राज्य में अकाली दल-भारतीय जनता पार्टी (गठबंधन) के मुख्यमंत्री के तौर पर प्रकाश सिंह बादल का नाम जारी रहेगा।

ज्ञात हो कि 117 सदस्यीय पंजाब विधानसभा के लिए 68 सीटें जीतकर इस गठबंधन ने बहुमत हासिल कर ली है। अकाली दल को 56 और भाजपा को 12 सीटें मिली हैं। सत्ता विरोधी लहर चलने का ख्वाब संजोए कांग्रेस को मात्र 46 सीटों से संतोष करना पड़ा।

उल्लेखनीय है कि बादल इससे पहले 1969, 1977, 1997 एवं 2007 में पंजाब के मुख्यमंत्री बन चुके हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बादल ने दावा पेश किया, 14 मार्च को शपथ ग्रहण