DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बारहवीं के इतिहास के प्रश्नपत्र का प्रारूप बदला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने बारहवीं परीक्षा के इतिहास के प्रश्नपत्र के प्रारूप में बदलाव कर दिया गया है। दीर्घउत्तरीय प्रश्न पहले आठ अंक के होते थे, अब ये दस अंक के होंगे। पहले इन प्रश्नों के उत्तर देने की शब्द सीमा 250 होती थी अब इसे बढ़ाकर पांच सौ कर दिया गया है। अति लघुउत्तरीय प्रश्नों की संख्या पांच से घटाकर दो कर दी गई है। अब दीर्घउत्तरीय दो प्रश्न पूछे जाएंगे जो दस अंकों के होंगे, लघु उत्तरीय आठ प्रश्न पूछे जाएंगे जो पांच अंकों के होंगे। अति लघु उत्तरीय प्रश्न तीन होंगे जो दो अंकों के होंगे। पैसेज आधारित प्रश्न तीन पूछे जाएंगे जो आठ अंकों के होंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बारहवीं के इतिहास के प्रश्नपत्र का प्रारूप बदला