DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीबीआई ने आईबी के विशेष निदेशक से की पूछताछ

सीबीआई ने इशरत जहां फर्जी मुठभेड़ के सिलसिले में मंगलवार को अपने कार्यालय में खुफिया ब्यूरो के विशेष निदेशक राजेन्द्र कुमार से पूछताछ की। सीबीआई अधिकारियों ने फर्जी मुठभेड़ मामले में आईबी अधिकारी से दूसरी बार पूछताछ की है। इस मामले में अहमदबाद के बाहरी इलाके में अपराध शाखा अधिकारियों के एक दल ने 15 जून 2004 को एक फर्जी मुठभेड़ में 19 वर्षीय इशरत और चार अन्य की हत्या कर दी थी।

सूत्रों ने बताया कि मणिपुर-त्रिपुरा कैडर के 1979 बैच के आईपीएस अधिकारी कुमार ने कथित रूप से ऐसी खुफिया सूचना तैयार की कि लश्कर आतंकवादियों का एक समूह गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी को निशाना बनाने के लिए अहमदाबाद आ रहा है। जांच में सीबीआई को संकेत मिले कि कुमार की भूमिका केवल सुराग तक सीमित नहीं थी बल्कि मुठभेड़ में भी थी। मुठभेड़ को गुजरात उच्च न्यायालय द्वारा गठित विशेष जांच दल ने फर्जी घोषित किया है और मेट्रोपालिटन मजिस्ट्रेट द्वारा जांच की जा रही है।

सूत्रों ने कहा कि अधिकारी ने अपने बचाव में कहा कि उनके द्वारा दिए गए खुफिया सुराग सही थे और सुराग देने का यह मतलब नहीं था कि उन्होंने पुलिस को मुठभेड़ करने का निर्देश दिया। गुजरात पुलिस का आरोप था कि इशरत उस लश्करे तैयबा मॉडयूल का हिस्सा थी, जो मोदी को निशाना बनाने जा रहा था।

सूत्रों ने बताया कि एजेंसी की जांच इस बात का पता लगाने पर केन्द्रित है कि क्या खुफिया अधिकारी मुठभेड़ में सक्रिय रूप से भागीदार थे। कुमार के साथ पूछताछ के सीबीआई के कदम से उसके आईबी के साथ संबंध में तनाव आ गया है। केन्द्रीय गृह सचिव आरके सिंह ने इस मुद्दे पर विचार विमर्श के लिए सीबीआई निदेशक रंजीत सिन्हा और आईबी प्रमुख आसिफ इब्राहिम की बैठक बुलाई है।

सीबीआई ने आपराधिक प्रक्रिया संहिता के प्रावधानों के तहत अधिकारी को ताजा नोटिस जारी किए हैं क्योंकि अधिकारी से पूर्व पूछताछ संतोषजनक नहीं रही थी। एजेंसी ने कहा कि अधिकारी द्वारा दिए गए जवाब भटकाने वाले प्रतीत हो रहे थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सीबीआई ने आईबी के विशेष निदेशक से की पूछताछ