अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्तन कैंसर से बचाएगा ब्लड टेस्ट

एक मामूली ब्लड टेस्ट की मदद से डॉक्टरों को पता चल सकता है कि क्या स्तन कैंसर की शुरुआती अवस्था वाले मरीज की मौत का खतरा अत्यधिक है या इलाज के बाद यह बीमारी दोबारा हो सकती है।
   
द लैन्सेट ओन्कोलॉजी जर्नल में एक अध्ययन के हवाले से कहा गया है कि जब बीमारी की शुरूआती अवस्था में रक्त का नमूना लिया जाए तो टयूमर कोशिकाएं बिल्कुल स्पष्ट बता देती हैं कि मरीज की जीवित रहने की संभावना कितनी है।
   
यह जानकारी मिलने के बाद डॉक्टर के लिए यह पता करना आसान हो सकता है कि मरीज को कीमोथेरेपी जैसे अतिरिक्त इलाज से फायदा होगा और कितना फायदा होगा अथवा नहीं होगा।
   
यूनिवर्सिटी ऑफ टैक्सास के एमडी एंडर्सन कैंसर सेंटर के अनुसंधानकर्ताओं ने कहा रक्त में एक या अधिक सर्कुलेटिंग कैंसर सेल्स (सीटीसीएस) की मौजूदगी बता सकती है कि क्या बीमारी की जल्द ही पुनरावत्ति होगी और बचने की उम्मीद कितनी कम है।
   
उन्होंने कहा कि अधिक संख्या में सीटीसीएस मिलने का मतलब मौत का खतरा अधिक होता है। फिलहाल सीटीसीएस ब्लड टेस्ट का उपयोग मरीज के इलाज या उसकी स्थिति का पता लगाने के लिए नहीं होता क्योंकि आम तौर पर अब तक माना जाता रहा है कि कैंसर के ट्यूमर रक्त प्रवाह से नहीं बल्कि लिम्फैटिक सिस्टम के जरिये फैलते हैं।
   
अध्ययन दल ने यह परीक्षण उन 302 मरीजों पर किया जिनका इस सेंटर में फरवरी 2005 से दिसंबर 2010 तक इलाज चला था। इन मरीजों में स्तन कैंसर की शुरूआत हो चुकी थी लेकिन यह शरीर के अन्य भागों में नहीं फैल पाया था। इन मरीजों की कीमोथेरेपी नहीं हुई थी।
   
अध्ययन दल ने एक चौथाई लोगों में सीटीसीएस पाया। इनमें से जिन मरीजों के रक्त में टयूमर कोशिकाएं थीं, उनमें, सात में से एक मरीज को इलाज के बाद फिर से यह बीमारी हुई। दस में से एक मरीज की परीक्षण अवधि में मौत हो गई।
   
इसके उलट, जिन मरीजों के ब्लड टेस्ट में कोई सीटीसीएस नहीं पाई गईं, उनमें बीमारी के दोबारा होने की दर केवल तीन फीसदी और मृत्यु दर केवल दो फीसदी रही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्तन कैंसर से बचाएगा ब्लड टेस्ट