DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैलेंडर हो तो नहीं होगी कोई समस्या: छेत्री

सैफ चैम्पियनशिप में पांच मैन आफ द मैच पुरस्कार जीतने वाले स्टार स्ट्राइकर सुनील छेत्री ने कहा कि अगर अंतरराष्ट्रीय मैचों का कैलेंडर पहले से ही पता हो तो अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ (एआईएफएफ) और क्लबों के बीच कोई समस्या नहीं होगी।
    
भारतीय टीम ने जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में सैफ चैम्पियनशिप के अपने आठवें फाइनल में अफगानिस्तान को 4-0 से हराकर खिताब बरकरार रखते हुए इस क्षेत्रीय टूर्नामेंट में छठी ट्राफी हासिल की है। इस चैम्पियनशिप में छेत्री ने प्रत्येक मैच में गोल दागे और टूर्नामेंट में सात गोल कर शीर्ष स्कोरर रहे। उन्हें पांचों मैचों में मैन आफ द मैच चुना गया।
    
अभी तक सैफ चैम्पियनशिप में पांच मैन आफ द मैच किसी खिलाड़ी को नहीं मिले हैं। इस बारे में छेत्री ने कहा कि मैं अपने मैन आफ द मैच के बजाय टीम की खिताबी जीत से खुश हूं। कप्तान क्लाइमेक्स लारेंस की अगुवाई में राष्ट्रीय टीम ने यह पहली प्रतियोगिता जीती है। लारेंस ने कहा कि मैं खुश हूं कि हम खिताब जीतने में सफल रहे।   
    
जब उनसे पूछा गया कि एआईएफएफ और क्लबों के बीच खेलने में खिलाड़ी को कितनी परेशानी होती है तो लारेंस ने कहा कि खिलाड़ी इसमें कुछ नहीं कर सकते। लेकिन छेत्री ने इस पर जवाब दिया कि अगर उचित कैलेंडर हो तो कोई समस्या नहीं होगी क्योंकि एआईएफएफ और क्लब दोनों को पता होगा कि राष्ट्रीय टीम को कितने मैच खेलने हैं। छेत्री ने कहा कि दोनों एआईएफएफ और क्लबों को अंतरराष्ट्रीय कैलेंडर की जानकारी होगी तो खिलाड़ियों को भी फायदा मिलेगा क्योंकि राष्ट्रीय टीम के लिये खिलाड़ियों को क्लबों के मैच छोड़कर खेलने आना पड़ता है।
     
भारतीय कोच सावियो मेडिरा ने सैफ चैम्पियनशिप को अंडर 23 टूर्नामेंट बनाने की बात कही थी तो क्या इस टूर्नामेंट को अंडर 23 टीम बनाना चाहिए। इस पर छेत्री ने कहा कि मैं इस बात से सहमत हूं लेकिन मुझे लगता है कि सीनियर टीम अगर 12 से 15 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलती है तो इसे निश्चित रूप से अंडर 23 टूर्नामेंट बना देना चाहिए।
     
उन्होंने कहा कि लेकिन सीनियर टीम को साल में 12 से 15 अंतरराष्ट्रीय मैच मिलने चाहिए। अगर सीनियर टीम का अच्छा कैलेंडर यानी व्यस्त कैलेंडर होगा तो हमें ये मैच नहीं खेलने चाहिए। लेकिन हमारे साथ ऐसा नहीं है, हमें इतने मैच खेलने को नहीं मिलते तो इसमें सीनियर टीम का खेलना अच्छा है। छेत्री ने कहा कि अंडर 23 टूर्नामेंट होने से किसी भी देश को दूसरी टीम बनाने में मदद मिलेगी। लेकिन हमें सीनियर टीम को अंतरराष्ट्रीय मैच मिलने चाहिए।
    
अफगानी टीम के बारे में उन्होंने कहा कि अफगानी खिलाड़ी काफी बढ़िया खेले। उनकी टीम काफी संतुलित टीम है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कैलेंडर हो तो नहीं होगी कोई समस्या: छेत्री