DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्लास्टिक की बोतलों में शराब की बिक्री का विरोध

प्लास्टिक की बोतलों और ट्रेटा पैक पाउचों में शराब की बिक्री की इजाजत दिये जाने के महाराष्ट्र सरकार के फैसले को एक गैर सरकारी संगठन ने बंबई उच्च न्यायालय का रुख कर चुनौती देते हुए कहा है कि यह लोगों के स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह है।
    
पर्यावरण के संरक्षण के प्रति समर्पित ग्लोबल इनवायरो सोल्यूशंस ने एक जनहित याचिका में दलील दी कि प्लास्टिक में रखा अल्कोहल संदूषित हो जाता है।
    
गैर सरकारी संगठन की जनहित याचिका में कहा गया है कि ट्रेटा पैक पाउच एल्मुनियम की बहुत पतली चादरों के बने होते हैं। इन पाउचों के निझालन (जल में घुलने) की प्रवृति के चलते इनके अंदर मौजूद शराब संदूषित हो जाते हैं। 
    
यदि शराब की इस तरह की प्लास्टिक की बोतलें या ट्रेटा पैक पाउच को उच्च तामपान में रखा जाता है या लंबे समय तक इन पर धूप पड़ता है तो इससे उत्पाद (शराब) खराब हो जाता है और यह सेवन के लिए नुकसानदेह हो जाता है।
    
एक स्वास्थ्य रिपोर्ट का हवाला देते हुए जनहित याचिका में दावा किया गया है कि अल्कोहल अम्लीय प्रकृति का होता है और प्लास्टिक की सतह के संपर्क में आने पर कुछ कैंसरकारी यौगिक अल्कोहल में घुल कर सेवन करने वाले व्यक्ति के लिए खतरा पैदा कर सकते हैं। 
   
गैर सरकारी संगठन ने दलील दी है कि इस तरह यह नुकसानदेह साबित हो सकता है और यहां तक कि शारीरिक विकार पैदा हो सकता है। याचिकाकर्ता ने अदालत से प्लास्टिक की बोतलों और ट्रेटा पैक में शराब की बिक्री को प्रतिबंधित करने का अनुरोध किया।
    
बहरहाल, मुख्य न्यायाधीश मोहित शाह ने इस मामले की सुनवाई 13 मार्च के लिए मुल्तवी कर दी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्लास्टिक की बोतलों में शराब की बिक्री का विरोध