DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राज्यसभा के लिए मनोनयन पर झारखण्ड भाजपा में बवाल

राज्यसभा चुनाव के लिए झारखण्ड से प्रत्याशियों के मनोनयन के मुद्दे पर मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में विवाद उभरकर सामने आया। पार्टी के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने झारखण्ड से किसी भाजपा सदस्य को मनोनीत न किए जाने के फैसले की निंदा की।

भाजपा ने एक निर्दलीय प्रत्याशी प्रवासी भारतीय अंशुमान मिश्रा को समर्थन देने का फैसला लिया है। मिश्रा पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधान सचिव रह चुके हैं। कई नेताओं को पार्टी का यह फैसला मंजूर नहीं है। मंगलवार सुबह हुई संसदीय दल की बैठक में यह मुद्दा उठाया गया।

फैसले पर असहमति जताते हुए सिन्हा ने कहा कि राज्यसभा चुनाव पर धनबल हावी हो गया है।

सिन्हा ने यहां संवाददाताओं से कहा, ''किसी कार्यकर्ता को मनोनीत किया जाना चाहिए। विधायकों को ऊंची बोली लगाने वालों की श्रेणी में नहीं रखा जाना चाहिए। (लालकृष्ण) आडवाणीजी ने आश्वस्त किया है कि संसदीय दल की बैठक में यह मुद्दा उठाए जाने पर वह पार्टी अध्यक्ष से बात करेंगे।बाहरी व्यक्तियों को टिकट नहीं दिया जाना चाहिए।''

उन्होंने कहा, ''सभी पार्टियों से मेरी अपील है कि वे ऐसे लोगों को दरकिनार कर दें जो झारखण्ड में धनबल का उपयोग करते हों। एक स्थानीय नेता को मनोनीत किया जाना चाहिए। भाजपा विधायकों से मिश्रा के मनोनयन पत्र पर हस्ताक्षर करा लिए गए हैं। इससे मैं दुखी हूं।''

सूत्रों के अनुसार, लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष सुषमा स्वराज, आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी भी इस मनोनयन का विरोध करने वाले प्रमुख नेताओं में शामिल हैं।

सिन्हा ने कहा, ''मिश्रा का ताल्लुक न तो भाजपा और न ही झारखण्ड से है।''

इस फैसले ने कई भाजपा नेताओं को चौंका दिया है, क्योंकि पार्टी ने राज्यसभा में विपक्ष के उपनेता एस.एस. अहलूवालिया को मनोनीत नहीं किया है, जबकि वह झारखण्ड से सदस्य हैं और दो अप्रैल को उनका कार्यकाल समाप्त हो रहा है।

अहलूवालिया ने इस मुद्दे पर सीधे कोई टिप्पणी करने से इंकार कर दिया। उन्होंने संवाददाताओं से सिर्फ इतना कहा, ''मैं पार्टी का एक सिपाही हूं।''

सूत्रों के मुताबिक, मिश्रा के मनोनयन को पार्टी अध्यक्ष नितिन गडकरी की सहमति प्राप्त है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राज्यसभा के लिए मनोनयन पर झारखण्ड भाजपा में बवाल