DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बसपा के लिए मुश्किलें खड़ी कर सकती है भाजपा

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में करारी हार मिलने के बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अब विधान परिषद में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के तीसरे उम्मीदवार की जीत की राह में रोड़े अटका सकती है। भाजपा के वरिष्ठ नेताओं की मानें तो भाजपा विधान परिषद चुनाव में दूसरा उम्मीदवार उतार सकती है।

विधान परिषद चुनाव को लेकर भाजपा के नेता अपनी ही पार्टी को कटघरे में खड़ा कर रहे हैं। पार्टी के पास एक उम्मीदवार को जिताने के लिए 18 वोट शेष हैं लेकिन पार्टी के दूसरे उम्मीदवार को न उतारने को लेकर भाजपाईयों में काफी रोष है।

भाजपा के एक पदाधिकारी कहते हैं, ''हम बसपा के उम्मीदवार की जीत का रास्ता आसान क्यों करें। उन्हें सात वोटों की आवश्यकता है तो हमें अपने उम्मीदवार को जिताने के लिए 11 वोटों की जरूरत है फिर हम अपने उम्मीदवार को लेकर आगे क्यों नहीं आ रहे हैं।''

इस सम्बंध में पार्टी के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने कहा था, ''इस बारे में वरिष्ठ नेताओं के साथ बातचीत की जा रही है और सोमवार दोपहर तक पार्टी किसी नतीजे पर पहुंच सकती है।''

वरिष्ठ पत्रकार एवं राजनीतिक विश्लेषक अभयानंद शुक्ल कहते हैं कि भाजपा ने अगर तीसरा उम्मीदवार उतार दिया तो फिर विधान परिषद चुनाव की स्थिति काफी दिलचस्प हो जाएगी उस स्थिति में चुनाव की समस्या आएगी और बसपा को अपना उम्मीदवार जिताने के लिए नाकों चने चबाने पड़ेंगे।

उल्लेखनीय है कि विधानसभा चुनाव में भाजपा को केवल 47 सीटें ही मिली थीं जिसके भरोसे उसने एक सीट के लिए महेंद्र सिंह को उम्मीदवार बनाया है। विधान परिषद की एक सीट के लिए 29 वोटों की आवश्यकता होती है लेकिन उसके बाद भी भाजपा के पास 18 वोट शेष बचते हैं जिनके सहारे वह बसपा के लिए मुश्किलें खड़ी कर सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बसपा के लिए मुश्किलें खड़ी कर सकती है भाजपा