DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोतिहारी में केंद्रीय विश्वविद्यालय के समर्थन में प्रस्ताव पारित

बिहार का केंद्रीय विश्वविद्यालय पूर्वी चंपारण के मुख्यालय मोतिहारी में स्थापित करने को लेकर केंद्र और राज्य सरकार में टकराव के बीच बिहार विधानसभा ने गुरुवार को सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित कर महात्मा गांधी की कर्मभूमि में केंद्रीय विश्वविद्यालय स्थापना के प्रस्ताव को पारित कर दिया।

विधानसभा अध्यक्ष उदयनारायण चौधरी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की उपस्थिति में प्रस्ताव रखा कि भारत सरकार मोतिहारी में ही बिहार केंद्रीय विश्वविद्यालय स्थापित करे, जिसे सदन में मौजूद सत्ता और विपक्ष के सदस्यों ने सर्वसम्मति से पारित कर दिया।

बिहार सरकार की पहल से इस प्रस्ताव को विधानसभा में पारित किया गया है, जिसे केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय के पास भेजा जाएगा। केंद्र मोतिहारी में विश्वविद्यालय को लेकर ना नुकुर कर रहा है। केंद्र ने एक पत्र भेजकर राज्य सरकार को पत्र भेजकर गया, पटना और बिहटा में जमीन का विकल्प तलाशने का संकेत दिया था।

नीतीश कुमार ने इसका विरोध किया है। गुरुवार को केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री कपिल सिब्बल को लिखे पत्र में मुख्यमंत्री ने कहा था कि मोतिहारी की बजाय अन्य स्थान पर केंद्रीय विश्वविद्यालय स्थापित करना प्रदेश की जनता की भावनाओं पर कुठाराघात होगा और नये विकल्प की तलाश पूर्वाग्रह के चलते की जा रही है।

कांग्रेस विधायक सदानंद सिंह ने बाद में मीडियाकर्मियों से कहा कि केंद्रीय विश्वविद्यालय की स्थापना मोतिहारी में होनी चाहिए। चंपारण राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की कर्मभूमि है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मोतिहारी में केंद्रीय विश्वविद्यालय के समर्थन में प्रस्ताव पारित