DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वसुंधरा के समर्थन में 56 विधायकों का इस्तीफा

राजस्थान बीजेपी संकट के बीच वसुंधरा राजे सिंधिया सोमवार को दिल्ली आकर बीजेपी अध्यक्ष नितिन गडकरी से मुलाकात कर सकती हैं। माना जा रहा है कि वह अरुण जेटली के साथ बीजेपी के कुछ दिग्गज नेताओं से भी इस मसले पर मुलाकात कर सकती हैं।
 
राजस्थान बीजेपी में अगले मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवारी पर जबरदस्त घमासान मचा हुआ है। वसुंधरा को मुख्यमंत्री पद का दावेदार घोषित करने की मांग पर अड़े 56 विधायक अब तक उन्हें अपना इस्तीफा सौंप चुके हैं।
 
वसुंधरा समर्थकों ने पार्टी को अल्टीमेटम भी दे दिया है कि वो महारानी को राजस्थान की भावी मुख्यमंत्री घोषित करें, वरना वो पार्टी छोड़ देंगे। वसुंधरा समर्थक विधायक भवानी सिंह का कहना है कि वसुंधरा राजस्थान में पार्टी से भी बड़ी हैं और उन्हीं के नेतृत्व में यात्रा निकाली जाए।
 
दूसरी तरफ विरोधी गुट की आवाज बुलंद कर रहे गुलाब चंद कटारिया का कहना है कि व्यक्ति बड़ा नहीं होता पार्टी बड़ी होती है। दरअसल कटारिया के सिर पर संघ का भी हाथ है और उनकी पूरी कोशिश है कि चुनाव में सीएम के उम्मीदवार के रूप वसुंधरा प्रोजेक्ट न हो।
 
इस बगावत पर पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी और अरुण जेटली ने राजे से फोन पर बातचीत करके संकट को शांत करने की कोशिश की। दो दिन पहले राजे ने पार्टी छोड़ने की धमकी दी थी।
 
झारखंड में राज्यसभा सीट हारने, राष्ट्रपति चुनाव के मद्देनजर हामिद अंसारी के खिलाफ पार्टी की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज के बयान को लेकर हुई किरकिरी और कर्नाटक में नेतृत्व की समस्या के मद्देनजर भाजपा नहीं चाहती कि उसकी छवि को और नुकसान हो।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वसुंधरा के समर्थन में 56 विधायकों का इस्तीफा