DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत रत्न के लिए नहीं हो कोई सीमा: सिब्बल

देश के सर्वोच्च असैनिक सम्मान भारत रत्न प्रदान किये जाने के लिए चुनिंदा श्रेणियों की सीमाओं को समाप्त किये जाने के निर्णय का स्वागत करते हुए मानव संसाधन विकास मंत्री कपिल सिब्बल ने कहा कि ऐसे सम्मान के लिए कोई श्रेणी होनी ही नहीं चाहिए।
   
संसद भवन परिसर में सिब्बल ने कहा कि भारत रत्न प्रदान करने के लिए चुनिंदा श्रेणियों की सीमा समाप्त करने का निर्णय स्वागत योग्य है। उन्होंने कहा कि मेरा मानना है कि किसी भी क्षेत्र में कोई भी ऐसा व्यक्ति जिसने अंतरराष्ट्रीय स्तर के मानकों के अनुरूप काम किया है और अपने प्रदर्शन और कार्यों से मील का पत्थर स्थापित किया है, उसे भारत रत्न दिया जाना चाहिए।
   
सिब्बल ने कहा कि विशेष तौर पर खेल के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को सम्मानित किया जाना चाहिए, चाहे हॉकी हो, क्रिकेट हो, कबड्डी हो या एथलेटिक्स। हाकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद या क्रिकेट की दुनिया के बादशाह सचिन तेंदुलकर को यह सम्मान देने के विषय में पूछे जाने पर मानव संसाधन विकास मंत्री ने कहा कि मेरा मानना है कि अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप प्रदर्शन करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को सम्मानित किया जाना चाहिए। 
   
उन्होंने कहा कि पूर्व में क्या हुआ, इसके बारे में वह कुछ नहीं कहना चाहते, लेकिन यहां तक की पत्रकारों को भी यह सम्मान दिया जाना चाहिए। गौरतलब है कि अभी तक भारत रत्न दिये जाने के लिए श्रेणियां तय थीं। यह सर्वोच्च सम्मान कला, विज्ञान, साहित्य और लोक सेवा के क्षेत्र में ही उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वालों को प्रदान किये जाते थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत रत्न के लिए नहीं हो कोई सीमा: सिब्बल