DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

करें जांच-पड़ताल, जब खरीदनी हो कार

पिछले कुछ सालों में कारों की बिक्री में जबरदस्त इजाफा देखने को मिला है। अब कार खरीदना कोई मुश्किल काम नहीं है। लोन, ईएमआई की मदद से आप आसानी से कार ले सकते हैं। लेकिन कार लेते समय पहले होमवर्क करना बेहद जरूरी है। यानी कार खरीदने के आसान फंडे जानना आवश्यक है। बता रही हैं मृदुला भारद्वाज

अगर आपने कार खरीदने का मन बना लिया है तो सबसे पहले जरूरी है कि आप घर के सभी सदस्यों और कार के जानकारों से विचार-विमर्श कर लें। सभी की राय लें कि कौन सा मॉडल, कौन सा रंग आदि खरीदना है इसके अलावा ये भी देखें कि कौन सी कम्पनी क्या ऑफर दे रही है। आमतौर पर नई कार खरीदने की खुशी में हम कुछ छोटी-छोटी बातों पर लापरवाह हो जाते हैं, जिसका खामियाजा हमें बाद में भुगतना पड़ता है, इसलिए जरूरी है कि भावनाओं में न बहें और प्रैक्टिकल सोच व ज्ञान के साथ कार की खरीदारी के लिए जाएं।

बजट
कार खरीदने से पहले ही अपने बजट के बारे में सोच लें। साथ ही ये भी ध्यान रखें कि आप जो मॉडल खरीद रहे हैं, उसके रख-रखाव और मरम्मत आदि का खर्च आप पहले से ही अपने बजट में शामिल कर लें। बजट पहले से तय करने से आपका समय तो बचता ही है साथ ही खरीदारी भी संतोषजनक होती है।

फाइनेंस
कार के लिए फाइनेंस का बंदोबस्त करते समय ब्याज दर और ईएमआई आदि के बारे में अलग-अलग कंपनियों और बैंक से पता कर लें। उस फाइनेंस कंपनी या बैंक से ही लोन लें जो आपके बजट में आ जाए। फाइनेंसर से खुद मिलें, दलाल को इसमें शामिल न होने दें। क्योंकि बीच में पड़ने वाला व्यक्ति अपना कमीशन भी रखता है, जिससे लोन आपके लिए महंगा पड़ता है। कार के लिए पैसे देते वक्त क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल न करें, इस पर ब्याज दर ज्यादा लगती है।

कार का बीमा करवाना न भूलें
कार का बीमा करवाना कदापि न भूलें। बीमा कंपनियों के बीच कड़े मुकाबले से ही कंपनियां तरह-तरह के ऑफर दे रही हैं। इसलिए हर स्कीम और प्लान के बारे में तुलना कर अच्छी कंपनी के साथ ही जुड़ें। कार इंश्योरेंस का प्रीमियम वाहन के मॉडल, मूल्य और खरीदारी के समय के साथ-साथ कार पर ली गई सुविधाओं पर निर्भर करता है। 

एग्रीमेंट
कार खरीदते वक्त पेपर वर्क बहुत जरूरी होता है। कार का पेपर वर्क या कोई भी एग्रीमेंट साइन करते वक्त उसे अच्छी तरह से पढ़-समझकर ही साइन करें। कार के सभी डॉक्यूमेंट्स जैसे ऑनर बुक, रजिस्ट्रेशन नंबर, इंश्योरेंस आदि के कागजात की अच्छी तरह से जांच करके ही हस्ताक्षर करें।

कार खरीदने का सही वक्त
डीलर्स के अपने कुछ टार्गेट होते हैं। फाइनेंशियल ईयर के अंत में ज्यादा डिस्काउंट मिलने की संभावना होती है। इस समय कार और एसेसरीज कंपनी कई तरह के डिस्काउंट रखती हैं, जो अन्य दिनों में नहीं होते। इसलिए ऐसे समय में कार खरीदें, जब ज्यादा डिस्काउंट आदि मिले।

टेस्ट ड्राइव जरूर लें
गाड़ी का टेस्ट ड्राइव बहुत जरूरी होता है। गाड़ी को टेस्ट ड्राइव पर ले जाते वक्त अलग-अलग तरह की सड़कों पर चलाएं। इससे आप कार की स्मूथनेस और उस कार को चलाने की क्षमता के बारे में जान पाएंगें। साथ ही इस बात को भी देख लें कि आप सामने कि चीजें ठीक से देख पा रहे हैं।

अपनी जरूरतों को तरजीह दें
अपनी जरूरतों को समझते हुए ही कार खरीदें। इस बात पर ध्यान दें कि एक महीने में आप कितनी बार कार चलाते हैं। अगर आपकी कार महीने में 500 किलोमीटर से कम चलती है, तब डीजल कार से होने वाली बचत का आप ज्यादा लाभ नहीं उठा पाएंगे। डीजल कार तभी खरीदें जब आप महीने में 700 किलोमीटर से ज्यादा चलाएं।

कार के फीचर्स और ब्रांड का भी रखें ध्यान
कार के फीचर्स और ब्रांड आदि के बारे में सारी जानकारी पहले से ही रखें। पॉवर, माइलेज, एसी आदि के बारे में अच्छे से समझकर ही कार खरीदें। विज्ञापनों के झांसे में न आएं। ब्रांड को लेकर अपनी सोच में लचीलापन लाएं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:करें जांच-पड़ताल, जब खरीदनी हो कार