DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऑस्ट्रेलिया पर दबदबा बनाए रखना चाहेगा श्रीलंका

भारत के बाहर होने के बाद ऑस्ट्रेलिया और श्रीलंका रविवार से यहां बेस्ट ऑफ थ्री फाइनल्स के साथ त्रिकोणीय एकदिवसीय क्रिकेट सीरीज का सिरमौर बनने की जंग शुरू करेंगे। साथ ही महेला जयवर्धने की टीम मेजबान टीम के खिलाफ लीग चरण में बनाए दबदबे को भी बरकरार रखने की कोशिश करेगी।
    
जयवर्धने की अगुआई वाले श्रीलंका ने ऑस्ट्रेलिया को लीग चरण में लगातार तीन मैचों में शिकस्त दी है और तीनों बार विरोधी टीम को ऑलआउट किया। पहला फाइनल रविवार को गाबा की तेज और उछाल भरी पिच पर खेला जाएगा और श्रीलंका को इस मुकाबले में प्रबल दावेदार माना जा रहा है।
    
श्रीलंका के गेंदबाजी आक्रमण की अगुआई तेज गेंदबाज लसिथ मलिंगा करेंगे जो अब तक टूर्नामेंट में 14 शिकार बना चुके हैं। उन्होंने शुक्रवार रात ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 49 रन पर चार विकेट चटकाकर श्रीलंका को नौ रन की जीत के साथ फाइनल में पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई।
    
नुवान कुलशेखरा ने मलिंगा का अच्छा साथ निभाया है और 4.89 की इकोनामी दर के साथ नौ विकेट हासिल किए हैं। ऑलराउंडर एंजेलो मैथ्यूज (सात विकेट) और तिसारा परेरा (नौ विकेट) भी उम्दा योगदान देने में सफल रहे हैं। परेरा हालांकि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अंतिम लीग मैच में लगी चोट के कारण रविवार को नहीं खेल पाएंगे।

बायें हाथ के स्पिनर रंगना हेराथ ने छह मैचों में 4.17 की शानदार इकोनामी दर से गेंदबाजी की है लेकिन उन्हें सिर्फ तीन विकेट मिले हैं। बल्लेबाजी में श्रीलंका का शीर्ष क्रम अच्छे फॉर्म में है और चोटी के चार बल्लेबाज उम्दा प्रदर्शन कर रहे हैं। युवा दिनेश चांदीमल ने 63.83 के औसत और 82.36 के स्ट्राइक रेट के साथ अब तब सीरीज में 383 रन बटोरे हैं।
    
जयवर्धने का सलामी बल्लेबाज के रूप में उतरना टीम के लिए बेहतरीन साबित हुआ। वह पिछले मैच में विफल रहे लेकिन इसके बावजूद 42.42 की औसत से 297 रन बटोर चुके हैं। कुमार संगकारा भी फॉर्म में लौट चुके हैं और उन्होंने अब तक 38.80 की औसत से 308 रन बनाए हैं। तिलकरत्ने दिलशान ने होबार्ट में भारत के खिलाफ नाबाद 160 रन की पारी के साथ टूर्नामेंट का सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर बनाया है। दिलशान अपने शानदार क्षेत्ररक्षण से भी टीम को मजबूती देते हैं जबकि जयवर्धने ने अपनी कप्तानी से काफी प्रभावित किया है।
   
दूसरी तरफ ऑस्ट्रेलियाई टीम श्रीलंका के खिलाफ लीग चरण में अच्छा प्रदर्शन करने में नाकाम रही है। डेविड वॉर्नर और मैथ्यू वेड ने सलामी जोड़ी के रूप में निराश किया और दोनों ने क्रमश: 24.37 और 26.75 की औसत से 195 और 214 रन बनाए हैं।
    
डेविड हस्सी ऑस्ट्रेलिया के तारणहार साबित हुए हैं और 82.40 के औसत तथा 104.56 के स्ट्राइक रेट के साथ 412 रन जोड़कर वह टूर्नामेंट के शीर्ष स्कोरर हैं। उनके बड़े भाई माइकल हालांकि अच्छी शुरूआत को बड़ी पारियों में बदलने में नाकाम रहे हैं। उन्होंने सात मैचों में 28.57 की औसत से 200 रन बनाए हैं।

टीम को हालांकि फिट हो चुके कप्तान माइकल क्लार्क की वापसी से मजबूती मिलेगी। युवा पीटर फॉरेस्ट ने भी 41.16 की औसत से 247 रन जोड़कर प्रभावित किया है। निचले क्रम में हालांकि ऑलराउंडर डैन क्रिस्टियन 26 से कुछ अधिक की औसत से केवल 158 रन बना पाए हैं।
   
जेम्स पेटिनसन की वापसी से ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजी मजबूत हुई है। बेन हिल्फेंहॉस और क्रिस्टियन दोनों सीरीज में एक एक बार पारी में पांच विकेट हासिल कर चुके हैं। बायें हाथ के स्पिनर जेवियर डोहर्टी ने सिर्फ 4.20 की इकोनामी दर से रन दिए हैं और इस दौरान 29.66 के औसत से नौ विकेट भी चटकाए। क्लाइंट मैक्के ने भी 10 विकेट हासिल किए हैं।
   
कुल मिलाकर रविवार के मैच में ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाजों को श्रीलंका के गेंदबाजों से पार पाना होगा। गाबा की पिच पर हालांकि श्रीलंका का पलड़ा उसकी गेंदबाजी से थोड़ा भारी लग रहा है।

टीमें इस प्रकार हैं:
श्रीलंका: महेला जयवर्धने (कप्तान), एंजेलो मैथ्यूज, तिलकरत्ने दिलशान, कुमार संगकारा, उपुल थरंगा, दिनेश चांदीमल, सचित्र सेनानायके, नुवान कुलशेखरा, लसिथ मलिंगा, तिसारा परेरा, धम्मिका प्रसाद और लाहिरू थिरिमाने।
 
ऑस्ट्रेलिया: माइकल क्लार्क (कप्तान), शेन वॉटसन, डैन क्रिस्टियन, जेवियर डोहर्टी, पीटर फॉरेस्ट, बेन हिल्फेंहॉस, डेविड हस्सी, माइकल हस्सी, ब्रेट ली, क्लाइंट मैक्के, जेम्स पेटिनसन, मैथ्यू वेड और डेविड वॉर्नर।
समय: मैच भारतीय समयानुसार सुबह आठ बजकर 50 मिनट पर शुरू होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ऑस्ट्रेलिया पर दबदबा बनाए रखना चाहेगा श्रीलंका