DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सईद पर निर्णय में देरी की वजह लंबी समीक्षा प्रक्रिया

अमेरिका का कहना है कि लंबी समीक्षा प्रक्रिया के कारण लश्कर-ए-तैयबा के सरगना और 2008 के मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद पर एक करोड़ डॉलर का इनाम घोषित करने में देरी हुई।

अमेरिकी विदेश विभाग की प्रवक्ता विक्टोरिया नूलैंड ने मंगलवार को कहा कि अमेरिकी करदाताओं के लिए यह बहुत बड़ी धनराशि है, और इसीलिए इस प्रक्रिया में कुछ समय लगा। नूलैंड ने सईद के उस तर्क को खारिज कर दिया, जिसमें उसने कहा है कि अमेरिका ने यह कदम अफगानिस्तान के लिए उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) का आपूर्ति मार्ग खोलने के लिए पाकिस्तान पर दबाव बनाने के इरादे से उठाया है।

नूलैंड ने कहा कि इसकी वजह मुम्बई हमला और सईद द्वारा न्याय प्रणाली के सरासर उल्लंघन किया जाना है। नूलैंड ने कहा कि चीजों के साथ तारतम्य स्थापित करना होता है। एक पूरी समीक्षा प्रक्रिया होती है। एक अंतर-एजेंसी इनाम समिति होती है, जिसे यह सब प्रक्रिया पूरी करनी होती है, और उसके बाद मंत्री को इसे मंजूरी देनी होती है। लेकिन नूलैंड यह नहीं बता सकीं कि क्या हमले के तत्काल बाद उस समय इस बारे में विचार किया गया था।

यह पूछे जाने पर कि क्या अमेरिका ने पाकिस्तानी प्रशासन से उसकी गिरफ्तारी के बारे में बात की थी, नूलैंड ने कहा कि निश्चितरूप से। हम इस मुद्दे पर पाकिस्तान के साथ बराबर सम्पर्क में हैं। नूलैंड ने कहा कि पाकिस्तान सरकार ने हमारे साथ बातचीत के दौरान हमेशा जांच में सहयोग देने का संकल्प लिया है।

इस बीच खोजी पत्रिका 'प्रोपब्लिका' ने कहा है कि सईद और उसके सहायक हाफिज अब्दुल रहमान मक्की पर इनाम की घोषणा लश्कर, इंटर-सर्विसिस इंटेलिजेंस (आईएसआई) और पाकिस्तान सरकार पर दबाव बनाने के इरादे से की गई है।

पत्रिका ने कहा है कि इस घोषणा से यह जाहिर होता है कि अमेरिका-पाकिस्तान के बीच सम्बंध इतने बिगड़ गए हैं कि ओबामा प्रशासन ने पाकिस्तान के प्रति कड़ा रुख अख्तियार किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सईद पर निर्णय में देरी की वजह लंबी समीक्षा प्रक्रिया