DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजा ने रुईया के खिलाफ दायर आरोपपत्र की प्रति मांगी

पूर्व दूरसंचार मंत्री ए़ राजा और 16 अन्य आरोपियों जिनके खिलाफ 2जी मामले की सुनवाई शुरू हो चुकी है। राज ने मंगलवार को अदालत से मामले में दायर तीसरे आरोप पत्र की प्रति मांगी। तीसरे आरोप पत्र में सीबीआई ने एस्सार समूह के प्रवर्तक अंशुमान व रवि रुईया तथा अन्य छह को आरोपी बनाया है।
  
विशेष सीबीआई न्यायाधीश ओ पी सैनी ने इस बारे में कहा कि इस बारे में संतुष्ट होने पर कि नये आरोप पत्र से उनके (ए़ राजा तथा अन्य) के मामले पर असर होगा, उन्हें तीसरे आरोपपत्र की प्रति दे दी जायेगी। न्यायाधीश ने कहा कि मैं न्यायाधीश हूं। मैं अपने कर्तव्य जानता हूं। यदि इससे (आरोप पत्र) आप (16 अन्य आरोपियों) पर असर होता है तो मैं निश्चित तौर पर आपको आरोप पत्र की प्रति मुहैया कराउंगा।
   
अदालत की यह टिप्पणी तब आई जब बचाव पक्ष के वकील विजय अग्रवाल ने कहा कि सीबीआई ने इस मामले में दूसरा पूरक आरोप पत्र दायर किया है इसलिए मौजूदा आरोपियों को ये दस्तावेज मुहैया कराए जाएं। उन्होंने कहा यह इस मामले में दूसरा पूरक आरोप पत्र है और यदि यह स्वतंत्र आरोप पत्र नहीं है तो इसे हमें उपलब्ध कराया जाना चाहिए।
   
अंशुमान रुईया, रवि रुईया, लूप टेलकाम की प्रवर्तक किरण खेतान, उनके पति आई पी खेतान और एस्सार समूह के निदेशक (रणनीति व योजना) विकास सर्राफ को आरोपी बनाते हुये 2जी स्पेक्ट्रम आवंटन घोटाले से जुड़ी जांच के संबंध में सीबीआई ने तीसरा आरोप पत्र दायर किया है।
   
इन पांच के अलावा लूप टेलीकाम प्राईवेट लिमिटेड, लूप मोबाईल इंडिया लिमिटेड और एस्सार टेली होल्डिंग का नाम भी कल दायर आरोप पत्र में शामिल है। सीबीआई ने तीसरे आरोपपत्र में शामिल आरोपियों पर दूरसंचार विभाग के साथ धोखाधडी का आरोप लगाया है। इसमें कहा गया है कि लूप टेलिकॉम को मुखौटा कंपनी बनाकर वर्ष 2008 में 2जी लाइसेंस हासिल किया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राजा ने रुईया के खिलाफ दायर आरोपपत्र की प्रति मांगी