DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सात साल बाद पाक राष्ट्रपति की भारत यात्रा

सात साल में किसी पाकिस्तानी राष्ट्रपति की पहली भारत यात्रा के तहत आसिफ अली जरदारी रविवार को दिल्ली पहुंचे। वह प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह द्वारा दिये गये दोपहर भोज में शामिल होंगे, जिसके बाद दोनों की अकेले में बैठक होगी और इस दौरान महत्वपूर्ण द्विपक्षीय मसलों पर चर्चा की उम्मीद है।

जरदारी का विमान नयी दिल्ली के पालम वायुसैनिक अड्डे (तकनीकी एरिया) पर दोपहर 12 बजकर 10 मिनट पर पहुंचा। उनके साथ उनके बेटे बिलावल भुट्टो भी आये हैं। पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक और कुछ अन्य अधिकारी भी आये हैं। उनका केन्द्रीय मंत्री पवन कुमार बंसल और विदेश सचिव रंजन मथाई ने स्वागत किया।

बिजनेस सूट पहने जरदारी ने वहां इंतजार कर रहे मीडियाकर्मियों का हाथ हिलाकर अभिवादन किया लेकिन कोई टिप्पणी नहीं की। वह सीधे प्रधानमंत्री सिंह के सात रेसकोर्स स्थित सरकारी आवास के लिए रवाना हो गये। एक दिन की निजी यात्रा पर आये पाकिस्तानी राष्ट्रपति राजस्थान के अजमेर में सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह पर जाएंगे।

जरदारी और सिंह की बैठक के दौरान आतंकवाद, पाकिस्तान में भारत विरोधी गतिविधियों को लेकर चर्चा की संभावना है। उल्लेखनीय है कि अमेरिका द्वारा लश्कर ए तैय्यबा प्रमुख हफीज सईद पर एक करोड़ डॉलर का इनाम घोषित करने के बाद सईद के खिलाफ कार्रवाई का पाकिस्तान पर खासा दबाव है। सईद को मुंबई में 2008 में हुए आतंकी हमले का साजिशकर्ता भी माना जाता है।

नियंत्रण रेखा पर व्यापार के जरिए विश्वास बहाल करने के उपायों में तेजी से दोनों देशों के बीच संबंध सुधरने के परिप्रेक्ष्य में जरदारी और सिंह की यह बैठक काफी महत्वपूर्ण समझी जा रही है। हालांकि बैठक का कोई तयशुदा एजेंडा नहीं है लेकिन दोनों नेताओं के परस्पर हित के मुद्दों पर बातचीत की उम्मीद है।

जरदारी और सिंह आज करीब तीन साल के अंतराल बाद मिलेंगे। इससे पहले वे 2009 में रूस के येकातेरिनबर्ग में मिले थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सात साल बाद पाक राष्ट्रपति की भारत यात्रा